प्यार के बदले प्यार (Bond of Love between Priest and Fox)

Japanese short story of a priest who is loved by village people. He too tries his best to help others. One day he helps a fox. Rest of the story is how their bond strengthens with time.

Moral of the Story: If you love others, you’ll get back love.

Full Story in Hindi

एक गांव के किनारे बनी कुटिया में एक साधु रहता था। वह दिन भर ईश्वर का भजन-कीर्तन करके समय बिताता था। उसे न तो अपने भोजन की चिंता थी और न ही धन कमाने की। गांव के लोग स्वयं ही उसे भोजन दे जाते थे।

hindi short story for kids with moral meaningसाधु उसी भोजन से पेट भर लिया करता था। उसे न तो किसी चीज की ख्वाहिश थी  और न ही लालच। वह बहुत उदार और कोमल हृदय व्यक्ति था। यदि कोई दुष्ट व्यक्ति उसे कभी कटु शब्द भी बोल देता, तो साधु उसका बुरा नहीं मानता था।

सभी लोग साधु के व्यवहार की प्रशंसा किया करते थे। इसी कारण वे उसकी हर प्रकार से सहायता किया करते थे।

एक बार कड़ाके की सर्दियों के दिन थे। साधु अपनी कुटिया में आग जलाकर गर्मी पाने का प्रयास कर रहा था। तभी उसे अपने दरवाजे पर दस्तक सुनाई दी। साधु सोचने लगा कि सर्दी की रात में इस वक्त कौन आ सकता है।

साधु ने दरवाजा खोला तो देखा की एक लोमड़ी बाहर खड़ी थी, जो सर्दी से कांप रही थी। लोमड़ी बोली-’’मैं सामने के पहाडों में रहती हूं। वहां आजकल बर्फ गिर रही है, इस कारण मेरा जीना मुश्किल हो गया है। आप कृपा करके मुझे रात्रि में थोडी सी जगह दे दीजिए। मैं सुबह होते ही चली जाऊंगी।

साधु ने नम्रतापूर्वक उसे भीतर बुला लिया और कहा-’’परेशान होने की कोई बात नहीं है। तुम जब तक चाहो यहां रह सकती हो।

कुटिया में जली आग के कारण लोमड़ी को काफी राहत महसूस होने लगी। तब साधु ने लोमडी को दूध और रोटी खाने को दी। लोमडी ने पेट भर कर भोजन किया और एक कोने में सो गई।

सुबह होते ही लोमड़ी ने साधु से बाहर जाने की आज्ञा मांगी। साधु ने उससे कहा कि वह इसे अपना ही घर समझकर जब चाहे आ सकती है।

रात्रि होने पर लोमड़ी फिर आ गई। साधु ने उससे दिन भर की बातें कीं, थोड़ा भोजन दिया। फिर लोमड़ी एक कोने में सो गई।

इसी तरह दिन बीतने लगे। लोमड़ी प्रतिदिन रात्रि होने पर आ जाती और सुबह होते ही जंगल की ओर चली जाती। साधु को लोमडी से एक बालक के समान प्यार हो गया।

अब जब कभी लोमडी को आने में थोडी देर हो जाती तो साधु दरवाजे पर खड़े होकर उसकी प्रतीक्षा करता, और उससे देर से आने का कारण पूछता। लोमड़ी भी साधु से हिल -मिल गई थी और उसे बहुुत प्यार करने लगी थी ।

कुछ महीने बीत जाने पर मौसम बदलने लगा। एक दिन लोमडी बोली-’’आपने मेरी इतनी देखभाल और सेवा की है, मैं इसके बदले आपके लिए कोई कार्य करना चाहती हूं।“

साधु ने कहा-’’मैंने तुम्हारी देखभाल करके तुम पर कोई उपकार नहीं किया है। यह तो मेरा कर्तव्य था। इस तरह की बातें करके तुम मुझे शर्मिंदा मत करो।

लोमडी बोली-’’मैं किसी उपकार का बदला नहीं चुकाना चाहती। मुझे आपके साथ रहते-रहते आपसे प्यार हो गया है। इस कारण मैं आपकी सेवा करके स्वयं को गर्वान्वित महसूस करना चाहती हूं। मेरी हार्दिक इच्छा है कि मैं आपके काम आऊं।“

साधु को लोमड़ी की प्यार भरी बातें सुनकर हार्दिक प्रसन्नता हुई। वह खुशी से गद्गद हो उठा और लोमडी के सिर पर हाथ फेरते हुए बोला-”मुुुझे न तो किसी चीज की आवश्यकता है और न ही कोई विशेष इच्छा। गांव के लोग कुटिया में ही मेरा भोजन पहुंचा जाते हैं, मेरी बीमारी में वे मेरा ध्यान रखते हैं, मुझे और क्या चाहिये ?“

लोमड़ी बोली-’’यह सब तो मैं जानती हूं। इतने महीनों तक आपके साथ रहकर आपकी आत्मसंतोष की प्रवृत्ति को मैंने अच्छी तरह देखा व सीखा है। फिर भी कोई ऐसी इच्छा हो जो पूरी न हो सकी हो तो बताइए। मैं उसे पूरा करने की कोशिस करुंगी।“

साधु कुछ देर तक सोचता रहा, फिर सकुचाते हुए बोला-”यूं तो जीते जी मुझे किसी चीज की आवश्यकता नहीं है। फिर भी कभी-कभी सोचता हूं कि मेरे पास एक सोने का टुकड़ा होता जिसमें से कुछ को मैं भगवान को चढ़ा देता और कुछ मेरे मरने पर मेरे क्रिया- कर्म के काम आ जाता। मैं गांव वालों की कृपा का बदला अपनी मृत्यु के बोझ से नहीें देना चाहता।“

लोमड़ी साधु की बात सुनकर बोली-’’बस इतनी सी बात है बाबा, इसमें आप इतना समुचा रहे थे। मैं कल ही आपके लिए सोने का टुकड़ा ला देती हूं।“

साधु ने कहा-’’मुझे कोई ऐसा सोने का टुकड़ा नहीं चाहिए जो चोरी किया हुआ हो या किसी से दान में प्राप्त किया हो।“

लोमड़़ी साधु की बात सुनकर सोच में पड़ गई फिर बोली-’’बाबा, मैं आपके लिए ऐसा ही सोना लाकर दूंगी।“

इसके बाद लोमड़ी बाबा की कुुटिया से हर दिन की भांति चली गई। शाम होने पर साधु लोमड़ी का इंतजार करने लगा। परंतु घंटों बीत गए, लोमड़ी वापस नहीं आई।

साधु को लोमडी की फिक्र में ठीक प्रकार नींद नहीं आई। इस प्रकार कई दिन बीत गए। परंतु लोमड़ी नहीं लौटी। साधु के मन में पश्चाताप होने लगा कि उसने बेकार ही ऐसी वस्तु मांग ली जो उसके लिए लाना संभव न था।

कभी साधु के मन में यह ख्याल आता कि हो सकता है कि लोमडी कहीं से सोना चुराने गई हो और पकडी गई हो। फिर लोगों के हाथों मारी गई हो या लोमड़ी किसी दुर्घटना का शिकार हो गई हो।

साधु को लौमड़ी की बहुत याद आती थी। जैसे ही वह रात्रि का भोजन करने बैठता,उसे लोमडी की मीठी बातें व साथ में भोजन खाना याद आ जाता था।

कुछ महीने बीत गए और साधु को लोमडी की याद कम सताने लगी। साधु अपने भजन-कीर्तन में मस्त रहने लगा।

अब लोमड़ी को गए छह महीने बीत चुके थे और सर्दी पड़ने लगी थी। एक दिन अचानक कुटिया के द्वार पर किसी ने दस्तक दी। साधु ने द्वार खोला तो यह देख कर हैरान रह गया कि द्वार पर पतली-दुबली लोमडी खड़ी थी।

साधु ने कहा-’’अंदर आओ। तुम इतनी दुबली कैसे हो गई ?“

लोमड़ी ने खुशी के आंसू बहाते हुए सोने का टुकड़ा साधु के आगे रख दिया और अपना सिर साधु के चरणों में टिका कर बैठ गई।

साधु लोमड़ी के सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए बोला-’’तुम्हें इसके लिए इतना परेशान होने की क्या आवश्यकता थी, तुम नहीं जानती कि मैं तुम्हारे लिए कितना परेशान रहता था। तुम मेरे बालक के समान हो।“

लोमड़ी बोली-’’मैं इसके लिए बिल्कुल भी परेशान नहीं थीं। मुझे तो अपना कर्तव्य पूरा करना था। आपके प्यार की मैं सदैव ऋणी रहूंगी। यह मेरी छोटी-सी भेंट आप स्वीकार कर लीजिए।“

साधु का मन भी लोमड़ी का प्यार देखकर विचलित हो उठा। उसकी अश्रुधारा बह निकली। वह बोला-’’लेकिन यह तो बताओ कि तुम इतने दिन कहां थी, यह सोने का टुकड़ा कहां से लाई ?“

लोमड़ी बोली-“जिन पहाड़ों पर मैं रहती हूं उसी के दूसरी तरफ सोने की खानें हैं। वहां पर खुदाई के वक्त सोने के कण गिरते जाते हैं। मैं उन्हीं कणों को इतने दिन तक इकट्टा करती रही।“

यह कह कर लोमड़ी साधु के पैरों में लोट लगाने लगी। साधु लोमड़ी को प्यार करते हुए बोला-”तुमने मेरे लिए इतनी मेहनत की है, इसके बारे में मैं सबको बताऊंगा।“

लोमड़ी बोली-”मैं नहीं चाहती कि मेरी छोटी-सी सेवा के बारे में लोगों को पता चले। मैंने प्रसिद्धि के लालच में यह कार्य नहीं किया है। यह पे्ररणा मुझे आपके प्यार से ही मिली है। कल मैं जब यहां से चली जाऊं उसके बाद आपका जो जी चाहे कीजिएगा।“

साधु बोला-”यह कैसे हो सकता है कि तुम्हारी इतनी मेहनत और सेवा को लोग न जानें ? लेकिल तुम यह नहींे चाहती तो यही सहीं। लेकिन अब मैं तुम्हें हरगिज जाने नहीं दूंगा। तुम्हें सदैव यहीं मेरे पास रहना होगा।“

लोमड़ी मान गई और पहले की भांति साधु के साथ रहने लगी। अब वह हर रोज सुबह को चली जाती और शाम को आते वक्त जंगल से थोड़ी लकडि़यां बटोर लाती ताकि बाबा की ईंधन की आवश्यकता पूरी होती रहे। लोमडी साधु बाबा के साथ वर्षों तक बालक की भांति सुख से रहती रही।

Leave a comment

पिता की सीख (Overconfident Thomas gets Embarrassed)

Rich and Overconfident Thomas forgets his father’s suggestions and end up in an embarrassing situation when he is looted by 3 thugs.

Moral of the Story: Carelessness can be costly.

Full Story in Hindi

सेठ जानसन के पास धन-दौलत और ऐशो-आराम की कोई कमी न थी। उसका गांव में बहुत बड़ा व्यापार था। लोग उसकी इज्जत करते थे।

hindi short story for kids with moral-1लेकिन जानसन को अपने पुत्र के बारे में एक चिंता खाए जाती थी कि उसका पुत्र थामस उसके बाद कैसे उसका व्यापार संभालेगा? थामस अठारह वर्ष का होने को था परंतु किसी भी काम के प्रति गंभीरता से ध्यान नहीं देता था। वह पिता के काम में भी अधिक हाथ न बंटाता था।

चूंकि थामस को बचपन से सारे सुख-आराम मिले थे, सो वह पैसे का मोल न समझता था। वह हर चीज या काम के प्रति लापरवाह था। यो उसमें बुद्धि की कमी न थी, परंतु वह अपने आपको जरूरत से ज्यादा होशियार समझता था। वह सोचता कि वह लोगों को बेवकूफ बना सकता है, परंतु कोई उसे बेवकूफ नहीं बना सकता।

सेठ जानसन थामस को अक्सर समझाया करता था कि काम में ध्यान लगाया करो, किसी भी काम में लापरवाही ठीक नहीं होती परंतु थामस एक कान सुनता, दूसरे कान से निकाल देता।

एक बार सेठ ने अपने पुत्र की बुद्धिमत्ता परखने के लिए उससे कहा-”जाओ शहर चले जाओ। यह बकरी बूढी हो चली है। इसे बेच आना। इसकी कीमत के बदले में व्यापार के लिए सौदा खरीद लाना।“

पुत्र थामस बोला-”पिताजी यह बकरी कितने की है? इसकी कीमत कितनी मिलनी चाहिए?“

सेठ बोला-”बकरी की कीमत चार सौ लीरा है। हां, चाहो तो घोड़ा ले जाओ, परंतु ध्यान से जाना। दुनिया अनेक धूर्त और ठगों से भरी पड़ी है। किसी अन्जान व्यक्ति का आसानी से विश्वास नहीं करना चाहिए।“

थामस बात को हंसी में टालते हुए बोला-”अरे पतिा जी, कोई मुझे बेवकूफ नहीं बना सकता। मैं बकरी को चार सौ में नहीं पांच सौ लीरा में बेचूंगा। आप देखते रह जाएंगे जब मैं समझदारी से सौदा खरीद कर लौटूंगा।“

थामस घोड़े पर बैठकर शहर की ओर चल दिया। बकरी के गले में उसने घंटी बांध दी और उसकी डोरी को घोड़े के पीछे बांध दिया। थामस स्वयं घोड़े पर बैठ गया और घोड़ा धीरे-धीरे चल दिया। पीछे-पीछे बकरी भी चल दी।

बकरी की घंटी से उसे आभास हो रहा था कि बकरी पीछे आ रही है। वह घोड़े पर आराम से बैठा चला जा रहा था, साथ ही समय बिताने के लिए कुछ गुनगुनाता जा रहा था।

रास्ते में कुछ ठगों ने देखा कि एक युवक मस्ती में घोड़े पर चला जा रहा है, पीछे-पीछे बकरी भी चल रही है।

उनमें से एक ठग धीरे से बोला-”मैं इसकी बकरी आराम से चुरा सकता हूं।“

यह सुनकर दूसरे आदमी को भी जोश आ गया वह बोला-”बकरी चुराना कौन-सी बड़ी बात है, मैं तो वह घोड़ा भी चुरा सकता हूँ जिस पर बैठकर वह गीत गुनगुनाता जा रहा है।“

पहला ठग बोला-”नहीं, घोड़ा चुराना तो मुश्किल है, मैं तो बकरी ही चुरा सकता हूं।“ सारे ठग थामस के पीछे-पीछे चल दिये। इतने में तीसरा ठग बोला-”तुम लोग तो यूं ही डरते हो। मैं तो इसके पहने हुए कीमती कपड़े व पैसे भी चुरा सकता हूं।“

सब ठगों में बहस होने लगी कि कौन पहले क्या चुराएगा। इन ठगों से बेखबर थामस आगे की तरफ बढ़ता जा रहा था। इतने में ठगों में यह तय हुआ कि जिस ठग ने पहले चोरी का प्रस्ताव रखा था, वही पहले चुराएगा। अतः पहला ठग बकरी चुराने के लिए आगे चल दिया।

hindi short story for kids with moral-2उस ठग ने बकरी की डोरी खोल दी और साथ-साथ चलने लगा। फिर चुपचाप घंटी निकालकर घोड़े की पूंछ में बांध दी और बकरी लेकर नौ दो ग्यारह हो गया।

चूंकि घंटी की आवाज लगातार आ रही थी, अतः थामस को पता न लगा। उसे चले कुछ घंटे हो गए थे, अतः सोचने लगा कि पेड़ के नीचे बैठकर सुस्ता लूं। ज्यों ही वह घोड़े से उतरा, बकरी को पीछे न बंधा देखकर घबरा गया।

थामस हड़बड़ाहट में हर आने-जाने वाले से बकरी के बारे में पूछने लगा। इतने में एक व्यक्ति ने बताया कि थोड़ी ही दूरी पर वैसी ही बकरी लेकर एक आदमी को उसने जाते हुए देखा है।

थामस ने उस व्यक्ति को रास्ता बताने के लिए धन्यवाद दिया और बोला-”आप बहुत सज्जन पुरुष हैं। आपने बकरी के बारे में बताकर मेरी बड़ी सहायता की है। आप मुझ पर एक उपकार और कर दीजिए। मैं बकरी चोर को पकड़कर लाता हूं। तब तक आप मेरा घोड़ा संभाल लीजिए। मैं अभी गया और अभी आया।“

थामस यह कहकर उसी दिशा में भागा जहां उस व्यक्ति ने बताया था। परंतु उसे बकरी व चोर कहीं न मिला। हारकर कुछ देर बाद व वापस उसी स्थान पर आ गया जहां उसे सज्जन को घोड़ा पकड़ा कर गया था।

उस पेड़ के नीचे उस व्यक्ति व घोड़े को न देखकर थामस को रोना आने लगा। उसे अब समझ में आया कि घोड़ा चोर भी बकरी का ही साथी था।

अब थामस को दिमाग काम नहीं कर रहा था। वह बहुत दुखी था। वह सोच रहा था कि किस आसानी से वह व्यक्ति उससे घोड़ा छीन कर ले गया। वह दुखी मन से गांव की ओर वापस जाने लगा।

थामस थोड़ी ही दूर जा पाया था कि उसने देखा, एक व्यक्ति कुंए के पास फूट-फूट कर रो रहा है। थामस को लगा क मैं भी बहुत दुखी हूं, यह व्यक्ति भी दुखी लगता है, इसके साथ मुझे अपना दुख बांट लेना चाहिए ताकि मन का बोझ हल्का हो सके।

थामस उसके पास जाकर दुखी स्वर से बोला-”भाई, तुम क्यों रो रहे हो? मेरा दुख तो तुमसे भी बड़ा है। आज मैंने बड़ा धोखा खाया है।“

वह व्यक्ति बोला-”नहीं भाई, तुम्हारा दुख मुझसे बड़ा नहीं हो सकता, मेरे लिए तो आज जीने-मरने का प्रश्न आ गया है। वैसे बताओ, तुम्हें क्या दुख है?“

थामस बोला-”भैया मेरी लापरवाही के कारण ही आज मेरी बकरी चोरी हो गई। मेरा घोड़ा मेरी आंखों के सामने लुट गया। मैं बहुत दुखी हूं। मैं अपने आपको बड़ा अक्लमंद समझता था।“

थामस की बात सुनकर वह व्यक्ति जोर-जोर से रोने लगा। थामस ने पूछा-”बताओ तो सही, बात क्या है, शायद मैं तुम्हारी कुछ मदद कर संकू।“

वह व्यक्ति रोते हुए बोला-”मैं एक सोने के व्यापारी के यहां काम करता हूं। उसकी बेटी की शादी है। मेरे मालिक ने अपनी बेटी के लिए हीरों का कीमती हार बनवाया था। मैं यहां रुका था, तो मेरे हाथ से वह हीरों के हार का डिब्बा कुएं में गिर गया।“

अब मैं किस मुंह से मालिक के पास जाऊं, वह तो यही समझेगा कि हार मैंने चुराया है और पीट-पीटकर मुझे मार डालेगा।

थामस बोला-”तुम कुंए में उतर कर हार क्यों नहीं ढूंढ़ लाते?“

”क्या करूं, इधर भी मौत है उधर भी मौत, उधर मालिक मार डालेगा तो इधर मैं कुंए में डूब कर मर जाऊंगा। मुझे तो तैरना भी नहीं आता और यहां कोई मेरी मदद करने वाला भी नहीं है।“ यह कहकर वह व्यक्ति और जोर से सुबह-सुबक कर रोने लगा।

थामस को उस व्यक्ति पर तरस आने लगा। वह बोला-”ठीक है, मैं कोशिश करता हूं। शायद तुम्हारे हीरे मिल जाएं और तुम्हारी जान बच जाए। लेकिन तब तक तुम मेरे सामान का ध्यान रखना। हां, अगर मैं हार निकाल लाया तो बदले में तुम मुझे क्या दोगे?“

”मैं तुम्हें बस अशर्फी दूंगा।“ वह व्यक्ति बोला-”लेकिन दस अशर्फी मैं काम से पहले लूंगा और दस काम के बाद।“ थामस बोला। उसने मन में सोचा कि चलो मेरा इतना नुकसान हो चुका है। इस तरह थोड़ी भरपाई जरूर हो जाएगाी।

उस व्यक्ति ने अशर्फी थामस को दे दी। थामस ने सोचा कि यदि मैं अशर्फी लेकर कुएं में उतरा और अशर्फी कुंए में गिर गई तो मेरा फिर नुकसान हो जाएगा। अतः थामस ने अपने कपड़े, घड़ी, धन, अशर्फी, सोने की चेन उतारकर उस अजनबी को पकड़ा दी और स्वयं आहिस्ता से कुएं में उतर गया। अशर्फी, सोने की चेन उतारकर उस अजनबी को पकड़ा दीं और स्वयं आहिस्ता से कुएं में उतर गया। थामस बड़ी देर तक कुएं में हीरे का हार ढूंढ़ता रहा परंतु हार होता तो मिलता।

वह थक कर कुएं से बाहर आया तो उस व्यक्ति को न पाकर भौंचक्का रह गया। वह व्यक्ति थामस के कपडे़ व सारा सामान लेकर भाग गया था। थामस के दुख का ठिकाना न था वह वहीं बैठकर फूट-फूटकर रोने लगा।

थामस शर्म से जमीन में गड़ा जा रहा था कि कैसे नंगे बदन गांव वापस लौटेगा? कैसे अपने पिता को अपना मुंह दिखाएगा। उसे अपनी बेवकूफी पर पश्चाताप हो रहा था। तभी उसके गांव का एक परिचित उधर से गुजरा।

उसने थामस की हालत देखी तो उसके पास आ गया। थामस को अपने कपड़े पहनाकर गांव वापस ले गया। आज थामस को अपनी भूल पर पछतावा हो रहा था। पिता की सीख पर ध्यान न देने का सबक उसे मिल चुका था।

Leave a comment

अनन्त लालसा (Greed of Poor Birju)

God grants a wish to poor Birju but his wishes keep on increasing. Seeing this, God takes away all the granted wishes and makes him poor again.

Moral of the Story: Greediness is a curse.

Full Story in Hindi

बिरजू एक गरीब चरवाहा था। दिन भर दूसरों की गाएं चराकर शाम को थका-मांदा घर लौअता था। उसकी कमाई केवल इतनी थी कि मुश्किल से एक वक्त की रोटी जुटा पाता था।

hindi story for kids with moralउसे दो छोटे बच्चे थे। दोनों ही पूर्ण भोजन न मिल पाने के कारण बेहद दुर्बल थे। बिरजू बहुत परेशान रता था कि किसी तरह उसकी आमदनी बढ़ जाए।

एक दिन की बात है। बिरजू जंगल में बैठा भगवान का ध्यान कर रहा था कि अचानक उसे महसूस हुआ कि उसके सामने कोई खड़ा है। उसने गरदन उठाई तो साक्षात् ईश्वर के दर्शन किए।

ईश्वर वाले-”हम तुम्हारी मेहनत और ईमानदारी से खुश हुए हैं। तुम कोई एक इच्छा करो, हम उसे पूरा कर देंगे।“

बिरजू बोला-”मैं बहुत गरीब हूं। अगर मेरे पास भी आपनी गाय होती तो मैं सुखी हो जाता।“

ईश्वर ने उसकी प्रार्थना सुन ली और उसे एक गाय दे दी। अब बिरजू सुबह उठकर गाय का दूध दुहता। दिन में गाय को चराकर लाता। शाम को फिर गाय का चारा काट कर सानी तैयार करता। फिर रात को दूध दुहता।

इस प्रकार बिरजू का पूरा दिन गाय के काम-काम में बीतने लगा। उसके बच्चों को दूध मिलने लगा। उसकी पत्नी भी गाय की देखभाल व घर का काम-काज करती। इसी तरह कुछ दिन बीत गए।

तब बिरजू सोचने लगा कि गाय का दूघर सारा घर में ही खर्च हो जाता है। थोड़ा बहुत ही दूध बचता है। चलो उसे दूसरों को बेच दिया करूं। इससे कुछ आमदनी बढे़गी।

धीरे-धीरे वह गाय का काफी दूध बेचने लगा। थोड़ा समय बीता तो बिरजू को लगने लगा कि यदि उसके पास गाय की जगह भैंस होती तो कितना अच्छा होता। वह सारा दूध बेच भी लेता जिससे उसकी आय बढ़ जाती और घर में बच्चों व पत्नी को भी दूध की कमी न रहती।

वह परेशान रहने लगा। एक दिन वह विचारों में खोया था कि उसे पुनः ईश्वर के दर्शन हुए। ईश्वर बोले-”क्या बात है पुत्र, बहुत परेशान लगते हो।“

बिरजू बोला-”प्रभु, आपकी कृपा से मुझे गाय मिल गई परंतु यदि मेरे पास गाय की जगह एक तगड़ी भैंस होती तो मैं ज्यादा सुखी हो जाता। परंतु तब मुझे यह बात सूझी ही न थी।“

”चिंता क्यों करते हो पुत्र! मैं तुम्हारी इच्छा पूरी किए देता हूं।“ कहकर ईश्वर अन्तर्धान हो गए।

बिरजू को भैंस मिल गइ। उसकी भैंस सुबह-शाम 15 किलो दूध देती। वह दूध हलवाई के यहां बेंच आता। इस तरह उसकी आमदनी बढ़ गई। वह खुश रहने लगा। उसके बच्चे स्कूल जाने लगे। पत्नी अच्छे कपड़े पहनने लगी।

कुछ दिन बाद बिरजू फिर सोचने लगा कि एक भैंस से क्या काम चलता है। उसने गलती की जो ईश्वर से एक भैंस मांगी, उसे कम से कम पांच भैंसे मांगनी चाहिए थीं।

वह आंखे बंद किए सोच ही रहा था कि ईश्वर ने उसे पुनः दर्शन दिए और पूछा-”क्या बात है पुत्र, तुमने गाय मांगी, मैंने तुम्हें गाय दी। फिर भी तुम सुखी नही हुए। फिर तुमने भैंस मांगी, मैंने तुम्हें भेंस दी। पंरतु तुम अभी भी परेशान और दुखी दिखाई देते हो।“

”प्रभु, यह ठीक है-” कि मंैने भैंस मांगी थी, परंतु एक भैंस से घर के खर्च पूरे नहीं हो पाते, इस कारण मैं परेशान हूं।“ बिरजू बोला।

ईश्वर बोले-”फिर क्या चाहते हो? चलो मैं तुम्हारी एक इच्छा और पूरी कर देता हूं, लेकिन यह अंतिम इच्छा होनी चाहिए।“

बिरजू सोचने लगा कि अभी तक मैं पांच भैंसे लेने की सोच रहा था। लेकिन भगवान कह रहे हैं तो अब मुझे अंतिम इच्छा पूरी करा लेनी चाहिए। अतः मुझे पांच की जगह दस भैंसे मांगनी चाहिए। अतः बिरजू बडे़ विचार के बाद बोला-”प्रभु, छोटा मुंह बड़ी बात न समझें तो मुझे दस भैंस दिलवा दें। फिर मैं आपसे कुछ नहीं मागूंगा।“

प्रभु बोले, ”ऐसा ही होगा।“ और अन्तर्धान हो गए। बिरजू बहुत खुश हो गया।

अब उसके सामने समस्या हुई कि इतनी भैंसों को रखे कहां? वह मुसीबत में पड़ गया। इतनी सारी भैंसे रखने के लिए बहुत सारी जमीन चाहिए थी। जमीन के भाव बहुत ऊंचे थे।

उसने दिमाग पर जोर लगाया और दो भैंसे बेचकर थोड़ी-सी जमीन खरीद ली। उसके चारों तरफ बाड़ लगा दी और भैंसो की देखभाल करने लगा। लेकिन इतनी सारी भैंसों की देखभाल करना उसके अकेले के वश में नहीं था।

कभी भैंसों के लिए चारे की जरूरत होती, तो कभी भैंसों का गोबर साफ करना होता। कभी इतनी सारी भैंसा का दूध निकालने की समस्या होती।

इस काम में सहायता के लिए उसने 2-3 नौकर रख लिए। सब नौकरी अलग-अलग काम करते थे। कोई गोबर उठाता, कोई सफाईकरता, तो कोई भैंसों का दूध दुहता। फिर उसने उन भैंसों का दूध जगह-जगह भेजने का प्रबन्ध कर दिया। इस काम के लिए दो लड़के रख लिये जो घर-घर दूध बेचने जाते थे।

बिरजू की डेयरी चल निकली, उसके पास धन की कमी न रही। अब उसके दोनों बच्चे बड़े होने लगे थे। उन बच्चों की बड़ी-बड़ी फरमाइशें होने लगीं। पत्नी को रोज जेवरों की चाह बनी रहती।

कुछ दिन यूं ही बात गए। धीरे-धीरे बिरजू को लगने लगा कि उसने कैसा गंदा धंधा कर रखा है। डेयरी में चारों तरफ मक्खियां भिनभिनाती रहती हैं, हर तरफ गोबर पड़ा रहता है।

बिरजू सोचने लगा कि वह शहर में होता तो अपने बच्चों को अच्छे अंग्रेजी स्कूल में पढ़ाता। क्या ही अच्छा होता कि उसकी भैंस और दूध के कारोबार की जगह शहर में कोई अच्छा व्यापार या दुकान होती या कोई छोटी-मोटी फैक्टरी होती।

धीरे-धीरे बिरजू अपने काम से ऊब कर परेशान रहने लगा। वह बार-बार ईश्वर को याद करने लगा। वह सोचता कि किसी तरह एक बार प्रभु उसे फिर दर्शन दे दें तो कितना अच्छा हो। मैंने मांगा भी तो क्या? भैंसे और दूध का व्यापार? यह भी कोई काम है? उसे कोई ढंग का काम मांगना चाहिए था।

एक दिन वह बैठा ईश्वर की प्रार्थना कर रहा था कि उसे लगा कि ईश्वर उसके सामने हैं। उसने आंखे उठाकर देखा तो ईश्वर के साक्षात् दर्शन किए। वह ईश्वर के पैरों में गिर पड़ा और गिड़गिड़ाकर बोला-”हे प्रभू मैं तो निरा बेवकूफ हूं। मैंने आपसे जो मांगा सो आपने दिया। परंतु जाने क्या सोचकर मैंने आपसे भैसें मांग ली, मुझे इनकी कतई जरूरत नहीं। आप मेरी एक इच्छा और पूरी कर दीजिए फिर मैं आपसे कभी कुछ नही मांगूंगा।“

ईश्वर बोले-”उठो वत्स, मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि यह आखिरी इच्छा है, सोच-समझ कर मांगना और तुमने खूब सोच-विचार कर दस भैंसें मांगी थी। अब तुम कहते हो कि तुम्हें भैंसे नहीं चाहिए। लेकिन मैं मजबूर हूं क्योंकि तुम्हारी इच्छाएं अनन्त हैं। एक के बाद दूसरी इच्छा जन्म लेती जाती है। तुम जैसे थे वैसे ही रहो।“

यह कहकर ईश्वर अन्तर्धान हो गए। धीरे-धीरे बिरजू के व्यापार में घाटा हो गया। भैंसे बीमार होकर मरने लगीं। कुछ दिन बाद घर की वही पुरानी हालत हो गई। वह दूसरों के गाएं चराने लगा और उसी तरह चरवाहा बन कर गरीबी का जीवन बिताने लगा।

Leave a comment

निन्यानवे का चक्कर (Chase of 100 coins)

An Indian folk story in which Teerath and Kalyani forgets to live their own life in their chase to get 1 extra coin to complete their collection of 100 coins. They end up on 99 coins.

Moral of the Story: Desire Never Ends.

Complete Story in Hindi

प्राचीनकाल की बात है। असम के ग्रामीण इलाके में तीरथ नाम का कुम्हार रहता था। वह जितना कमाता था, उससे उसका घर खर्च आसानी से चल जाता था।  उसे अधिक धन की चाह नहीं थी। वह सोचता था कि उसे अधिक कमा कर क्या करना है। दोनों वक्त वह पेट भर खाता था, उसी से संतुष्ट था।

hindi story for children with moralवह दिन भर में ढेरों बर्तन बनाता, जिन पर उसकी लागत साठ-आठ रूपये आती थी। अगले दिन वह उन बर्तनों को बाजार में बेच आता था। जिस पर उसे डेढ़ या दो रूपये बचते थे। इतनी कमाई से ही उसकी रोटी का गुजारा हो जाता था, इस कारण वह मस्त रहता था।

रोज शाम को तीरथ अपनी बांसुरी लेकर बैठ जाता और घंटों उसे बजाता रहता। इसी तरह दिन बीतते जा रहे थे। धीरे-धीरे एक दिन आया कि उसका विवाह भी हो गया। उसकी पत्नी का नाम कल्याणी था।

कल्याणी एक अत्यंत सुघड़ और सुशील लड़की थी। वह पति के साथ पति के काम में खूब हाथ बंटाने लगी। वह घर का काम भी खूब मन लगाकर करती थी। अब तीरथ की कमाई पहले से बढ़ गई। इस कारण दो लोगों का खर्च आसानी से चल जाता था।

तीरथ और कल्याणी के पड़ोसी यह देखकर जलते थे कि वे दोनों इतने खुश रहते थे। दोनों दिन भर मिलकर काम करते थे। तीरथ पहले की तरह शाम को बांसुरी बजाता रहता था। कल्याणी घर के भीतर बैठी कुछ गाती गुनगुनाती रहती थी।

इस पर तीरथ बोला-”हमें ज्यादा कमा कर क्या करना है? ईश्वर ने हमें इतना कुछ दिया है, मैं इसी से संतुष्ट हूं। चाहे छोटो ही सही, हमारा अपना घर है। दोनों वक्त हम पेट भर कर खाते हैं, और हमें क्या चाहिए?“

इस पर कल्याण बोली-”मैं जानती हूं कि ईश्वर का दिया हमारे पास सब कुछ है और मैं इसमंे खूब खुश भी हूं। परन्तु आड़े वक्त के लिए भी हमें कुछ न कुछ बचाकर रखना चाहिए।“

तीरथ को कल्याणी की बात ठीक लगी और दोनों पहले से अधिक मेहनत करने लगे। कल्याणी सुबह 4 बजे उठकर काम में लग जाती। तीरथ भी रात देर तक काम करता रहता। लेकिन फिर भी दोनों अधिक बचत न कर पाते। अतः दोनों ने फैंसला किया कि इस तरह अपना सुख-चैन खोना उचित नहीं है और वे पहले की तरह मस्त रहने लगे।

एक दिन तीरथ बर्तन बेचकर बाजार से घर लौट रहा था। शाम ढल चुकी थी। वह थके पैरों खेतों से गुजर रहा था कि अचानक उसकी निगाह एक लाल मखमली थैली पर गई। उसने उसे उठाकर देखा तो उसके आश्चर्य का ठिकाना न रहा। थैली में चांदी के सिक्के भरे थे।

तीरथ ने सोचा कि यह थैली जरूर किसी की गिर गई है, जिसकी थैली हो उसी को दे देनी चाहिए। उसने चारों तरफ निगाह दौड़ाई। दूर-दूर तक कोई दिखाई नहीं दिया। उसने ईश्वर का दिया इनाम समझकर उस थैली को उठा लिया और घर ले आया।

घर आकर तीरथ ने सारा किस्सा कल्याणी को कह सुनाया। कल्याणी ने ईश्वर को धन्यवाद दिया।

तीरथ बोला-”तुम कहती थीं कि हमें आड़े समय के लिए कुछ बचाकर रखना चाहिए। सो ईश्वर ने ऐसे आड़े समय के लिए हमें उपहार दिया है।“

”ऐसा ही लगता है।“ कल्याणी बोली-”हमें गिनकर देखना चाहिए कि ये चांदी के रुपये कितने हैं।“

दोनों बैठकर रुपये गिनने लगे। पूरे निन्यानवे रुपये थे। दोनों खुश होकर विचार विमर्श करने लगे। कल्याणी बोली-”इन्हें हमें आड़े समय के लिए उठा कर रख देना चाहिए, फिर कल को हमारा परिवार बढ़ेगा तो खर्चे भी बढ़ेगे।“

तीरथ बोला-”पर निन्यानवे की गिनती गलत है, हमें इन्हें सौ पूरा करना होगा, फिर हम इन्हें बचा कर रखेंगे।“

कल्याणी ने हां में हां मिलाई। दोनों जानते थे कि चांदी के निन्यानवे रुपये को सौ रुपये करना बहुत कठिन काम है, परंतु फिर भी दोनों ने दृढ़ निश्चय किया कि इसे पूरा करके ही रहेंगे। अब तीरथ और कल्याणी ने दुगुनी-चैगुनी मेहनत से काम करना शुरु कर दिया। तीरथ भी बर्तन बेचने सुबह ही निकल जाता, फिर देर रात तक घर लौटता।

इस तरह दोनों लोग थक कर चूर हो जाते थे। अब तीरथ थका होने के कारण बांसुरी को नहीं बजाता था, न ही कल्याणी खुशी के गीत गाती गुनगुनाती थी। उसे गुनगुनाने की फुरसत ही नहीं थी। न ही वह अड़ोस-पड़ोस या मोहल्ले में कहीं भी जाती थी।

दिन-रात एक करके दोनों लोग एक-एक पैसा जोड़ रहे थे। इसके लिए उन्होंने दो वक्त के स्थान पर एक वक्त भोजन करना शुरु कर दिया, लेकिन चांदी के सौ रुपये पूरे नहीं हो रहे थे।

यूं ही तीन महीने बीत गए। तीरथ के पड़ोसी खुसर-फुसर करने लगे कि इनके यहां जरूर कोई परेशानी है, जिसकी वजह से ये दिन-रात काम करते हैं और थके-थके रहते हैं।

किसी तरह छः महीने बीतने पर उन्होंने सौ रुपये पूरे कर लिए। अब तक तीरथ और कल्याणी को पैसे जोड़ने का लालच पड़ चुका था। दोनों सोचने लगे कि एक सौ से क्या भला होगा। हमें सौ और जोड़ने चाहिए। अगर सौ रूपये और जुड़ गए तो हम कोई व्यापार शुरू कर देंगे और फिर हमारे दिन सुख से बीतेंगे।

उन्होंने आगे कभी उसी तरह मेहनत जारी रखी। इधर, पड़ोसियों की बेचैनी बढ़ती जा रही थी। एक दिन पड़ोस की रम्मो ने फैसला किया कि वह कल्याणी की परेशानी का कारण जानकर ही रहेगी। वह दोपहर को कल्याणी के घर जा पहुंची। कल्याणी बर्तन बनाने में व्यस्त थी।

रम्मो ने इधर-उधर की बातें करने के पश्चात् कल्याणी से पूछ ही लिया-”बहन! पहले तो तुम रोज शाम को मधुर गीत गुनगुनाती थीं आजकल तुम्हारा गीत सुनाई नहीं देता।“

कल्याणी ने ‘यूं ही’ कहकर बात टालने की कोशिश की और अपने काम में लगी रही। परंतु रम्मो कब मानने वाली थी। वह बात को घुमाकर बोली-”आजकल बहुत थक जाती हो न? कहो तो मैं तुम्हारी मदद कर दूं।“

कल्याणी थकी तो थी ही, प्यारे भरे शब्द सुनकर पिघल गई और बोली-”हां बहन, मैं सचमुच बहुत थक जाती हूं, पर क्या करूं हम बड़ी मुश्किल से सौ पूरे कर पाए हैं।“

”क्या मतलब?“ रम्मो बोली तो कल्याणी ने पूरा किस्सा कह सुनाया। रम्मो बोली-“बहन, तुम दोनों तो गजब के चक्कर में पड़ गए हो, तुम्हें इस चक्कर में पड़ना ही नहीं चाहिए था। यह चक्कर आदमी को कहीं का नहीं छोड़ता।“

कल्याणी ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा-“तुम किस चक्कर की बात कर रही हो? मैं कुछ समझी नहीं।“

”अरी बहन, निन्यानवे का चक्कर।“ रम्मो का जवाब था।

Leave a comment

अनोखी तरकीब (Friendship of Mangal and Devdhar)

Friendship between friends is destroyed when one does cheating. They become friends again when the later does confession and says sorry for his act.

Moral of the Story: Bond of Friendship is very Strong.

Full Story in Hindi

देवधर और मंगल की मित्रता ऐसी थी, जैसे दोनों एक ही शरीर के दो अंग हों। यदि को चोट लगती तो तकलीफ दूसरे को होती। वे दोनों बचपन से ही मित्र थे।

hindi short story for kids with moralअब उनकी मित्रता इतनी पुरानी हो चुकी थी कि लोग उनकी दोस्ती का उदाहरण देते थे। देवधर और मंगल बड़े हो चुके थे। दोनों का अलग-अलग व्यापार था। एक दिन दोनों ने तय किया कि वे दोनांे मिलकर व्यापार करेंगे।

फिर दोनों ने मिलकर व्यापार शुरु कर दिया। उनका व्यापार चल निकला और दोनों खूब अमीर हो गए। वे ठाठ-बाट से रहने लगे। धीरे-धीरे एक समय आया कि दोनों का विवाह हो गया।

उनको साथ-साथ व्यापार करते 7-8 वर्ष बीत चुके थे। तभी देवधर के मन में न जाने कहां से बेईमानी आ गई और वह व्यापार में हेरा-फेरी करने लगा। मंगल बहुत सीधा और नेक इंसान था। उसे इस गड़बड़ी की भनक तक नहीं लगी। देवधर व्यापार में घाटा दिखाता जा रहा था। एक दिन ऐसा आया कि मंगल उस व्यापार का का भागीदार ही नहीं रहा। मंगल ने ऐसा धोखा जिन्दगी में पहली बार खाया था।

धीरे-धीरे वह बहुत चुप रहने लगा। वह किसी से भी बात नहीं करता था। वह न हंसता था, न बोलता था। इस कारण उसकी पत्नी बहुत परेशान रहने लगी। एक तरफ तो घर में आर्थिक तंगी रहने लगी, दूसरी तरफ मंगल बीमार रहने लगा।

मंगल की पत्नी शन्नो ने डाॅक्टर-वैद्य से खूब इलाज कराया, किंतु कोई फायदा नहीं हुआ। किसी डाॅक्टर को उसकी बीमारी समझ में नहीं आती थी। मंगल दिन पर दिन कमजोर होता जा रहा था।

दूसरी तरफ देवधर अपने काम में मस्त था। उसने हेरा-फेरी करके खूब धन जमा कर लिया था। अब अपना अलग व्यापार करके खूब धन कमा रहा था। अपनी पत्नी के लिए उसने ढेरों गहने बनवा दिए थे। गांव के लोग ऐसा विश्वासघात देखकर कानों पर हाथ रख लेते थे। लोगांे को देवधर की बेईमानी का खूब पता था, लेकिन कोई भी खुलकर सामने नहीं आता था।

एक दिन मंगल का चचेरा भाई सोमदत्त शहर से आया। वह मंगल की हालत देखकर हैरान गया। मंगल की पत्नी ने चिन्तित होते हुए कहा-”देवर जी, अपने भैया का कुछ इलाज कराओ, हम तो गांव में इलाज करवा के हार गए, परंतु कोई फायदा नहीं हुआ।“

सोमदत्त ने शन्नो से मंगल की हालत के बारे में विस्तार से जानकारी ली और बोला-”भाभी, मंगल का इलाज डाॅक्टर-वैद्य के पास नहीं है। उसका इलाज कुछ और ही है।“

फिर सोमदत्त ने शन्नो को बताया कि जब तक देवधर मंगल से माफी नही मांगेगा। मंगल ठीक नहीं होगा। परंतु शन्नो ने बताया कि देवधर अब बहुत धनी और घमंडी हो गया है, उसका माफी मांगना नामुमकिन है। हम गरीब उसके सामने टिक नहीं सकेंगे।

सोमदत्त ने कहा कि मैं इस नामुमकिन को मुमकिन करके दिखाऊंगा। मैं बिना धन के ही उसे नीचा दिखाऊंगा। उसने अगले दिन से ही अपनी योजना पर काम करना शुरु कर दिया।

अगले दिन जब देवधर अपने घोड़े पर बैठकर अपनी दुकान पर जा रहा था तो उसने देखा कि एक आदमी ने उसकी तरफ देखा और जोर से हंस दिया।

देवधर को लगा कि कोई यूं ही हंस रहा होगा। वह थोड़ी ही दूर गया था कि चार लोग खड़े आपस में बातें कर रहे थे। वह जैसे ही उन चारों के सामने से गुजरा, उनमें से एक ने उसकी तरफ देखा और कुछ कहा कि सारे लोग जोर-जोर से हंसने लगे।

देवधर को लगा कि सब लोग उसकी तरफ देखकर हंस रहे हैं। हो सकता है कि उसकी पगड़ी टेढ़ी हो, उसने अपनी पगड़ी को ठीक करने का प्रयास किया तो घोड़े से गिरते-गिरते बचा।

अब वह अपनी दुकान पहुंच चुका था। ज्यों ही उसने दुकान का ताला खोला, एक छोट-सा बालक उधर से जोर-जोर से हंसता हुआ गुजरा। देवधर को अब थोड़ा क्रोध आने लगा था। उसने बालक को बुलाकर पूछा-”ऐ लड़के क्यों हंसता है?“

लड़के ने कहा-”यूं ही“ और चला गया।

देवधर का मन आज दुकान में नहीं लग रहा था। उसे लगता था कि आज जरूर कहीं कोई गड़बड़ है। कभी वह शीशे में देखता, कभी अपने कपड़ों पर निगाह दौड़ाता, परंतु उसे समझ न आता।

दोपहर को एक दाढ़ी वाला व्यापारी उनकी दुकान पर आया और उसने बड़ा सौदा तय कर लिया। परंतु देवधर का ध्यान आज कहीं और था। उस दाढ़ी वाले व्यापारी ने 2-3 बार अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरा और देवधर की ओर देखकर जोर-जोर से हंसने लगा, फिर बोला-”सेठ, सौदा फिर कभी करूंगा।“

देवधर को लगा कि उसकी दाढ़ी में कुछ लगा है, वह बार-बार अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरने लगा। जैसे-तैसे दिन बीता। आज उसका व्यापार में मन नहीं लगा था, इस कारण बिक्री भी कम हुई थी।

घर जाकर देवधर ने सारी बात अपनी पत्नी को बताई, वह सुनकर परेशान हो गई। उसने उसके कपड़ों, पगड़ी व दाढ़ी पर निगाह डाली, उसे सब कुछ ठीक-ठाक लगा।

अगले दिन फिर जब वह कहीं काम से जा रहा था तो फिर उसने लोगों को कानाफूसी करते व हंसते देखा। अब उसे हर समय यही लगने लगा कि हो न हो, लोग उसकी बेईमानी की चर्चा कर रहे हैं। उसने दो-चार बार लोगों की बात सुनने की कोशिश की तो उसे अपने बारे में एक भी शब्द सुनाई नहीं दिया।

अब वह जहां जाता लोग हंसते दिखाई देते। उसने सोचा कि लोग यूं ही उसका मजाक बना रहे है, उसे उन सबको सबक सिखाना चाहिए। अगले दिन जब कोई व्यक्ति उस पर हंसा तो वह चिल्ला कर बोला-”पागल, पागल कहीं का।“

उधर से उस व्यक्ति ने भी वही शब्द दोहरा दिए। सुनकर देवधर क्रोध से आगबबूला हो उठा। धीरे-धीरे एक सप्ताह में हालत यह हो गई कि वह जिधर से निकलता लोग कहते-”पागल, पागल कहीं का।“ सुनकर वह बौखला उठता और सचमुच पागलों जैसी हरकतें  करने लगता। उसका व्यापार मंदा पड़ने लगा। धीरे-धीरे उसकी हालत खराब होने लगी।

अगले दिन गांव के जमींदार के यहां उसके बेटे की शादी थी। जमींदार ने सारे गांव के लोगों को दावत पर बुलाया। देवधर भी खूब अच्छे कपड़े पहन सज-धज कर दावत खाने पहुंचा। सोमदत्त भी वहां पहुंच गया।

जमींदार खुशी से लोगों से मिल रहा था और उनका अभिवादन कर रहा था। सोमदत्त जमींदार के पास जाकर फुसफुसाकर बोला-”आप गांव के सबसे धनी व्यक्ति ने नहीं मिलेंगे। ये जो सामने दाढ़ी वाले सज्जन हैं, वो अपने आपकेा आपसे भी बड़ा जमींदार समझते हैं।“

जमींदार खुशी के मूड में था। बात को मजाक में लेते हुए उसने अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरा फिर हंस कर देवधर की ओर देखा और बोला-”अरे यह तो बड़ा भला आदमी है।“ फिर आगे बढ़ गया। देवधर को लगा कि वह व्यक्ति वही आदमी है जो पहले दिन उसे देखकर हंसा था। उसके बाद ही सब लोग उसकी तरफ देखकर हंसने लगे। हो न हो यह कोई राज की बात है,जो आज जमींदार भी हंस रहा है। वह व्यक्ति उनकी कोई शिकायत कर रहा है या उसकी दाढ़ी में कोई गड़बड़ है। उसने झट से अपनी दाढ़ी में हाथ फेरा और परेशान हो उठा।

वह झट से सोमदत्त से मिलने भागा, परंतु वह तब तक गायब हो चुका था।

अगले दिन गांव के जमींदार के यहां उसके बेटे की शादी थी। जमींदार ने सारे गांव के लोगों को दावत पर बुलाया। देवधर भी खूब अच्छे कपड़े पहन सज-धज कर दावत खाने पहुंचा। सोमदत्त भी वहां पहुंच गया।

जमींदार खुशी से लोगों से मिल रहा था और उनका अभिवादन कर रहा था। सोमदत्त जमींदार के पास जाकर फुसफुसाकर बोला-”आप गांव के सबसे धनी व्यक्ति से नहीं मिलेंगे। ये जो सामने दाढ़ी वाले सज्जन हैं, वो अपने आपको आपसे भी बड़ा जमींदार समझते हैं।

जमींदार खुशी के मूड में था। बात को मजाक में लेते हुए उसने अपनी दाढ़ी पर हाथ फेरा फिर हंस कर देवधर की ओर देखा और बोला-”अरे यह तो बड़ा भला आदमी है।“ फिर आगे बढ़ गया। देवधर को लगा कि वह व्यक्ति वही आदमी है जो पहले दिन उसे देखकर हंसा था। उसके बाद ही सब लोग उसकी तरफ देखकर हंसने लगे। हो न हो यह कोई राज की बात है, जो जमींदार भी हंस रहा है। वह व्यक्ति उसकी कोई शिकायत कर रहा है या उसकी दाढ़ी में कोई गड़बड़ है। उसने झट से अपनी दाढ़ी में हाथ फेरा और परेशान हो उठा।

वह झट से सोमदत्त से मिलने भागा, परंतु वह तब तक गायब हो चुका था।

अगले दिन सुबह देवधर ने सबसे पहले दाढ़ी-मूंछे साफ करवाई, फिर सोमदत्त को ढंूढने निकल पड़ा। उसके मन में जमींदार की बात को जानने की बेचैनी थी। थोड़ी ही दूर जाने पर उसे सोमदत्त जाता दिखाई दिया। उसने सोमदत्त से रात की सारी बात पूछी तो सोमदत्त ने कहा-”मैं एक ही शर्त पर तुम्हें जमींदार की बात बता सकता हूं। तुम्हें मेरी एक बात माननी पड़ेगी।“

देवधर बोला-”भैया, धन मांगने के अलावा जो तुम कहो वही मानूंगा।“ यह सुनकर सोमदत्त देवधर को पास ही मंगल के घर ले गया और बोला-”पहले इनसे माफी मांगो फिर बताऊंगा।“

देवधर ने पलंग पर लेटे व्यक्ति से तुरंत माफी मांग ली, ”भैया मुझे माफ कर दो।“ तो वह व्यक्ति पलंग से उठ कर बैठ गया। उसके चेहरे पर पतली-सी मुस्कान की रेखा खिंच गई। देवधर यह देखकर हैरान रह गया कि वह उसका अपना मित्र मंगल था। उसकी इतनी दुर्बल और बीमार हालत के कारण वह अपने बचपन के मित्र को पहचान नहीं सका था। उसे पश्चाताप होने लेगा।

तभी सोमदत्त ने बताया कि जमींदार ने तो उसकी प्रशंसा की थी। लेकिन सोमदत्त पश्चाताप की अग्नि में जल रहा था। उसने अपने मित्र से अपने किए पर पुनः माफी मांगी और गले से लगा लिया।

धीरे-धीरे मंगल अच्दा होने लगा। दोनों में फिर दोस्ती हो गई फिर उनकी दोस्ती जीवन भर चलती रही।

Leave a comment

चम्मच का सूप (Farmer makes spoon-soup)

Story of a farmer who stops midway on a rainy day in a hut of an elderly lady. She refuses to give him food. Rest of the story is how he applies his brain and prepares tomato soup for himself.

Moral of the Story: Use your brain, make things easier for yourself.

Complete Story in Hindi

एक बार एक किसान किसी काम से शहर गया। जैसे ही शाम होने लगी, उसे लगा कि उसे तुरंत गांव लौट जाना चाहीए। अगर देर हो गई तो अंधेरे में घर पहुंचना मुश्किल हो जाएगा। वह अपना काम अधूरा छोड़कर गांव की ओर चल दिया।

short story for kids with moralवह थोड़ी ही दूर गया था कि अचानक बादल घिर आए, ठंडी हवाएं चलने लगीं। उसने अपनी चाल तेज कर दी। परंतु कुछ ही देर में बूंदा-बांदी होने लगी। किसान ने सोचा कि अगर मैं तेज चलूं तो शायद रात होन से पहले अपने घर पहुंच जाऊंगा।

परंतु मौसम को यह मंजूर नहीं था। काली घटाओं के कारण जल्दी ही अंधेरा छाने लगा। वारिश भी तेज होने लगी। किसान ने आगे बढना ठीक नहीं समझा। आगे जंगल का खतरनाक रास्ता था, एक तो खराब मौसम ऊपर से जंगली रास्ता सोचकर किसान डर के मारे कांपने लगा।

वह एक छोटे से घर के आगे बरामदे में दुबक कर बैठ गया। परंतु ठंडी हवाओं के कारण उसे सर्दी लगने लगी। रात होते-होते उसे सर्दी के साथ-साथ भूख भी लगने लगी। उसे कोई उपाय नहीं सूझ रहा था। वह सोचने लगा कि इस समय थोड़ा-सा कुछ गरम खाने को मिल जाता तो उसकी सर्दी भी मिट जाती और भूख भी कम हो जाती।

उसने डरते-डरते घर की कुंडी खटखटाई। अंदर से बुढि़या ने दरवाजा खोला। बुढि़या उस घर में अकेली रहती थी। उसने हिम्मत करके पूछा-”तुम कौन हो? और इस तूफानी रात में मेरे दरवाजे पर क्या कर रहे हो ?“

किसान ने विनम्र होते हुए कहा-”मैं एक गरीब किसान हूं। मेरा नाम चोखे है। शहर में कुछ काम से आया था। अब बारिश के कारण यहां फंस गया हूं।“

बुढि़या हट्टे-कट्टे जवान को देखकर भीतर से घबरा गई थी। परंतु ऊपर से हिम्मत दिखाते हुए बोली-”तो मुझसे क्या चाहते हो ?“

”मां जी, मुझे बहुत सर्दी लग रही है और साथ ही जोर से भूख लगी है। अगर आप मुझे अंदर आने देंगी और कुछ खिला देंगी तो मैं आपका एहसान जिन्दगी भर नहीं भूलूंगा।“

बुढि़या ने उसे टालने की गरज से कहा- ”चोखे, मेरे पास आज खाने को कुछ नहीं है, वरना तुम्हें कुछ न कुछ जरूर खिला देती।“

चोखे को दरवाजे के सामने ही रसोई में एक चम्मच दिखाई दिया। उसने कहा- ”कोई बात नहीं मां जी, मैं चम्मच का सूप बना कर पी लूंगा। आपके घर मंे चम्मच तो है न?“

रसोई में चम्मच सामने ही पड़ा था, अतः बुढि़या कुछ बहाना न बना सकी। वह सोचने लगी मुझे तो चम्मच का सूप बनाना नहीं आता और भला चम्मच का सूप कैसे बनता है मैं भी तो देखूं। उसने किसान को भीतर आने दिया।

किसान ने चूल्हा जला दिया और सूप बनाने के लिए पतीला मांगा। फिर चम्मच को रगड़-रगड़ कर साफ किया। बुढि़या चोखे को निहार कर देखे जा रही थी।

किसान ने बड़े पतीले में पानी भर कर उसमें चम्मच डाल दिया। पानी गरम होने लगा। इस बीच किसान ने कहा- ”मां जी मेरा नाम तो चोखे है ही, मैं सूप भी बड़ा चोखा बनाता हूं।“

इतनी देर में पानी से भाप निकलने लगी। किसान बोला-”मां जी जरा-सा नमक होगा?“

बुढि़या नमक के लिए भला क्या मना करती, सो नमक का डिब्बा उठाकर किसान को दे दिया। किसान ने आधा चम्मच नमक उसमें डाल दिया और चलाने लगा।

कुछ ही मिनटों में पानी उबलने लगा। किसान ने उसे निकाल कर चखा। बुढि़या देखकर हैरान हुई जा रही थी। इतने में किसान बोला-”सूप तो बड़ा स्वादिष्ट बन रहा है, लेकिन इसमें कोई सब्जी पड़ जाती तो मजा आ जाता।“

”कौन-सी-सब्जी चाहिए, एक दो सब्जी तो मेरे पास भी हैं।“ बुढि़या बोली।

”टमाटर, लौकी, कद्दू, आलू कुछ भी चलेगा।“ किसान ने कहा।

बुढि़या ने सोचा, चलो आज नया सूप सीखने को मिल रहा है, तो उसने तीन-चार टमाटर किसान को दे दिए। किसान ने उन्हें चाकू से काट कर डाल दिया और चम्मच से दबा-दबा कर चलाने लगा।

किसान बोला-”आज तो वाकई बहुत स्वादिष्ट सूप बना लगता है। बहुत अच्छी खुश्बू आ रही है। मैं अभी आपको चखाता हू।“

बुढि़या मन ही मन खुश होने लगी कि आज उसने चम्मच का सूप बनाना सीख लिया है। किसान ने थोड़ा-सा सूप चम्मच में निकाला फिर बुढि़या से बोला-”माँ, जी अगर आप इसे चखने से पहले चुटकी भर चीनी डाल लेंगी तो आपको अधिक स्वादिष्ट लगेगा।“

बुढि़या ने चोखे का मतलब समझ लिया कि इसे सूप में डालने के लिए चम्मच भर चीनी चाहिए और किसान ने चीनी सूप में डाल दी। फिर किसान ने चम्मच से सूप को दो कटोरी में डाल दिया। वह बुढि़या से बोला-”देखिए चम्मच का सूप कितना चोखा बना है।“

बुढिया ने सूप चखा तो दंग रह गई। बोली-”आज तक मैंने चम्मच का सूप न कभी सुना, न चखा, परंतु यह तो वास्तव में बहुत स्वादिष्ट है।“

बुढि़या और किसान बैठकर गर्म सूप का आनंद लेने लगे। उनके पास से सर्दी कब की उड़न-छू हो चुकी थी।

Leave a comment

बातों का फेर (Roger win 3 cattles in challenge)

A Russian folk tale in which a kid first boast of dining with ruthless village landlord and then enters into a challenge with his friend for doing the same again. Rest of the story is how he uses his brain to dine with village landlord to win 3 cattles in the challenge.

Complete Short Story in Hindi

गांव के किसान के बेटे की शादी का मौका था। घर में खूब रौनक हो रही थी। स्त्रियां घर में खुशी के गीत गा रही थीं। बाहर चबूतरे पर घर के तथा गांव के अनेक लोग जमा थे।

खूब हंसी-मजाक का माहौल था। सब अपनी-अपनी बातें सुना रहे थे और हंस रहे थे। इस बीच गांव का एक दुकानदार शेखी बघारते हुए बोला – “जानते हो कल क्या हुआ?”

सब ने पूछा – “क्या हुआ?”

“मेरी मुलाकात गांव के जमींदार ठाकुर से हुई। ठाकुर साहब ने मुझसे मेरे हाल-चाल पूछे।” दुकानदार बोला।

सारे लोग कहने लगे – “ऐसा तो हो ही नहीं सकता। ठाकुर एक नंबर का घमंडी और खूसट है। किसी से सीधे मुंह बात नहीं करता।”

उन सबकी बातों को किसान का अठारह वर्षीय बेटा रोजर सुन रहा था। वह बोला – “अरे चाचा, तुम तो मुलाकात की बात करते हो, मैं तो ठाकुर के साथ भोजन करके आ सकता हूं।”

सब लोग सुनकर हंसने लगे। फिर एक बुजुर्ग समझाने लगा – “बेटा सोच-समझकर अपनी हैसियत से बात करते हैं। ऊंचे-ऊंचे ख्वाब नहीं देखा करते। हमारी इतनी हैसियत कहां है कि वह ठाकुर के दर्शन भी कर सकें।”

रोजर हंसने लगा। वह बातों में सबसे आगे था और बुद्धिमान भी था। अपना गुस्सा दबाते हुए बोला – “दादा जी, मैं कोई गप्प नहीं हांक रहा हूं, सच कह रहा हूं।”

दुकानदार रोजर की बात सुनकर मन मन खिसियाने लगा। अपना गुस्सा दबाते हुए बोला – “बेटा रोजर, तुमने अगर ठाकुर के घर भोजन करके दिखा दिया तो मैं तुम्हें बड़ा इनाम दूंगा। ज्यादा सपने नहीं देखा करते बच्चे।”

“अच्छा, क्या बड़ा इनाम दोगे? अपने दोनों घोड़े मुझे दे दोगे?” रोजर बोला।

“अरे दो घोड़े क्या, एक गाय भी दे दूंगा।” दुकानदार जोश में भरकर बोला, “लेकिन एक बात बताओ, अगर तुम एक दिन के अंदर ठाकुर ठाकुर के साथ भोजन नहीं कर सके तो तुम मुझे क्या दोगे?”

“ठीक है, मै तीन वर्ष तक तुम्हारी गुलामी करूंगा।” रोजर बोला।

सब लोग रोजर की तरफ देखने लगे। रोजर ने असंभव को सभंव करने जैसी बाते कही थी।

अगले दिन सुबह रोजर ठाकुर के यहां पहुंचा तो द्वारपाल ने रोक लिया। रोजर ने उससे कहा – “ठाकुर साहब से पूछकर बताओ कि सोने की ईंटों के बारे में कुछ पूछना है। कहो तो कहीं और जाकर पूछ लू।”

द्वारपाल ने ठाकुर को सारी बात बताई तो ठाकुर सुनकर मन ही मन जिज्ञासु हो उठा। परंतु ऊपर से शांत रहकर बेला – “लड़के को अंदर ले आओ, उसके साथ भोजन आदि का प्रबंध करो।”

रोजर को इज्जत के साथ भीतर ले जाया गया। वहां मेज पर भोजन और फल लगा दिए गए। थोड़ी देकर में ठाकुर आकर रोजर के पास बैठ गया और पूछने लगा – “तुम्हारा क्या नाम है? तुम्हारे पिता क्या कामकरते हैं?”

रोजर बोला – “मेरा नाम रोजर है। मेरे पिता किसान हैं। मैं पूछ रहा था कि सोने की एक ईंट की कीमत क्या होगी?  उसके बदले में क्या-क्या खरीदा जा सकता है?”

ठाकुर की जिज्ञासा बढ़ती जा रही थ। वह वोला – “सोने की ईंट की कीमत तो हजारों में होगी। तुम चाहो तो उसके बदले में जमीन-जानवर, बहुत कुछ मिल सकता है। वैसे तो ईंट के वजन पर निर्भर करता है कि ईंट की कीमत क्या है? ईंट देख लूं तो पता चले। बोलो कितनी ईंटें हैं तुम्हारे पास? एक या ज्यादा? जाओ जल्दी से ले लाओ। मैं अच्छे दाम दूंगा।” ठाकुर ईंट पाने की लालसा में लगातार बोलता जा रहा था और साथ ही अंगूर खाता जा रहा था।

रोजर चुपचाप बैठा भोजन कर रहा था। ठाकुर को लगा कि शायद रोजर को ईंटों की कीत कुछ कम लग रही है अतः वह प्यार से बोला – “अरे बेटा, जो चाहोगे सो मिल जाएगा। जितनी जमीन चाहिए उतनी जमीन दे दूंगा, जाओ अपनी ईंट ले आओ।”

रोजर बोला – “परंतु मेरे पास सोने की ईंट हैं थोड़े ही, मैं तो यूं ही ईंटों का भाव पूछ रहा था। अगर कल मेरे पास ये ईंटें हों…।”

“भाग यहां से बदमाश, मुझे बेवकूफ बनाता है?” कहकर ठाकुर ने अपने सिपाहियों को जोर से आवाज लगाई।

“अरे आप तकलीफ क्यों करते हो, मैं स्वयं ही चला जाता हूं।” रोजर बोला – “आप मुझे क्या जमीन-जानवर दोगे? मुझे तो इस भोजन के बदले ही दो घोड़े और एक गाय मिलने वाली है।”

जमींदार ठाकुर हत्प्रभ होकर बाूतनी रोजर को जाते हुए देख रहा था।

Leave a comment

नेकी का इनाम (Step-mother Realizes her Mistake)

Indian folk tale(lok katha) in which a step mother who dislikes her step-daughter realizes her mistake and starts treating her like own child.

Moral of the Story: Every Child is Equal for a Mother.

Complete Story in Hindi

बुलबुल बहुत ही भोली-भाली लड़की थी। छल-कपट उसे छू तक नहीं गया था। उसके स्वभाव के विपरीत उसकी एक बहन थी-ना था रीना। रीना चालाक, मक्कार और आलसी थी।

hindi story for kids with moral

बुलबुल के साथ प्रकृति ने बहुत बड़ा अन्याय किया था, उसकी मां बचपन में ही परलोक सिधार गई थी। परिवार में बुलबुल की सौतेली मां और सौतेली बहन रीना ही थी। उसके पिता गांव के बाहर काम करते थे। साल में एक बार ही घर आते थे।

बुलबुल की मां बुलबुल को जरा भी प्यार नहीं करती थी। सारा घर का काम बुलबुल से ही कराती थी। रीना और मां दिन भर पलंग पर बैठकर मस्ती करतीं और खाती-पीती रहतीं। बुलबुल बेचारी सारा दिन काम करती, परंतु मां उसे रूखा-सूखा ही खाने को देती। लेकिन बुलबुल फिर भी अपनी मां से कोई शिकायत नहीं करती थी।

रीना भी अपनी मां की आदत का खून लाभ उठाती थी। जब-तब मौका पालक बुलबुल की झूठी शिकायत मां से करती रहती थी। मां इस वजह से बुलबुल की पिटाई करती थी।

एक दिन बुलबुल काम करके थक गई थी। उसे भूख लग रही थी। भूख से उसके पेट में दर्द होने लगा था। उसने मां से कहा-”मां, मेरे पेट में जोर का दर्द है कुछ खाने को दे दो।“

मां बोली-”पेट में दर्द है और खाने को मांग रही है। खाने से तो पेट दर्द और भी बढ़ जाएगा।“

मां के भोजन न देने से बुलबुल भीतर ही भीतर बहुत दुखी थी, परंतुु उसने मां से कुछ नहीं कहा और चुपचाप सारा दिन घर का काम करती रही। उसकी आंखों से आंसू बहने लगे थे। परंतु उन आंसुओं को पोंछने वाला कोई न था।

आधी रात बीत जाने पर भी बुलबुल बेचारी सो न सकी और उसने घर छोड़ने का फैसला कर लिया। वह रात्रि के अंधेरे में चुपचाप घर से निकल पड़ी और चलते-चलते एक जंगल में पहुंच गई। उसे जोर की भूख लगी थी। सामने ही जामुन का पेड़ था, वह जैसे-तैसे उस पर चढ़ गई और जामुन खाने लगी। पेट भर खाने पर वह नीचे उतर आई।

अब तक दिन निकल चुका था। वह जंगल में इधर-उधर खेलती रही। बुलबुल खुश थी कि आज उसे रोकने-टोकने वाला कोई नहीं था। खेलने में उसे बड़ा आनन्द आ रहा था, क्योंकि घर पर खेलना उसके नसीब में न था।

रात्रि होने पर बुलबुल को डर लगने लगा। उसे अंधेरे से डर लग रहा था अतः वह एक कोने में दुबक कर बैठ गई। थोड़ी ही देर में उसे सर्दी-सी महसूस होने लगी। ज्यांे-ज्यों रात्रि बीत रही थी, ठंड बढ़ती जा रही थी। बुलबुल स्वयं को बचाने के लिए सिकुड़ती जा रही थी। उसे कंपकंपी आ रही थी, अतः उसने आंखे बंद कर ली और सोने का प्रयास करने लगी। परंतु कुछ ही क्षण में उसे अपने सामने तेज रोशनी सी महसूस हुई।

बुलबुल ने आंखे खोलीं तो देखा कि सामने एक बूढ़ी औरत बाल खोले खड़ी थी। उसने सफेद साड़ी पहनी हुई थी। उसके बाल भी सफेद थे। बुलबुल उसे देखकर घबराने लगी, परंतु वह औरत बोली-”बेटी घबराओ नहीं, तुम्हारा क्या नाम है? मैं शरद् ऋतु हूं। मेरे आने से हर तरफ सर्दी बढ़ जाती है, क्या तुम्हें सर्दी अच्छी लगती है?“

बुलबुल ने कहा-”मेरा नाम बुलबुल है। मुझे सर्दी की ऋतु में आनंद आता है। सर्दी के फल संतरे, सेब, अंगूर, सभी मुझे अच्छे लगते हैं। मुझे सर्दियोेमें धूप में खेलना और सोना बहुत अच्छा लगता है। तुम बहुत अच्छी हो मां।“

बुलबुल की बात सुनकर सर्दी खुश हो गई और बुलबुल को एक मोटा मखमली कम्बल देते हुए बोली-”लो यह ओढ़ लो। तुम्हें सर्दी लग रही है। यह थैली रख लो, इसमें ढेर सारा धन और कीमती गहने हैं। यह तुम्हारे लिए मेरा उपहार है, ये तुम्हारी जिन्दगी में काम आएंगे।“

सर्दी की बुढि़या बुलबुल को उपहार देकर अदृश्य हो गई। बुलबुल सारे उपहार पाकर बेहद खुश हुई। उसने थैली को बगल में दबा लिया और कम्बल ओढ़कर सोने का प्रयत्न करने लगी। कम्बल की गर्माहट से कुछ ही क्षणों में बुलबुल को नींद आ गई।

थोड़ी ही देर में बुलबुल को गर्मी-सा महसूस होने लगी। बुलबुल ने कम्बल उठाकर आंखे खोलीं तो देखा कि एक सुंदर व जवान युवती खड़ी थी। उस युवती ने गहरे हरे व पीले वस्त्र पहने हुए थे। उसकी आंखों में चमक थी। उसने बुलबुल को देखकर कहा-”क्या तुम जानती हो कि मैं कौन हूं?“

बुलबुल ने न में सिर हिलाया तो युवती बोली-”मैं ग्रीष्म सुंदरी हूं। मेरे आने से गर्मियों की ऋतु आरंभ हो जाती है। अच्छा, यह बताओ कि तुम्हेें गर्मी की ऋतु कैसी लगती है।“

बुलबुल को खूब गर्मी लगने लगी थी। वह कंबल को एक तरफ सिखकाते हुए बोली-”ग्रीष्म ऋतु में तो मुझे बहुत आनंद आता है। गर्मियों में आम, तरबूत, खरबूजे सभी कुछ खाने में बेहद आनंद आता है। मैं तो कच्चे आम भी पेड़ों से तोड़कर खूब खाती हूं और हां आइसक्रीम का मजा तो गर्मियों में ही आता है। सच, ग्रीष्म ऋतु बहुत पंसद है।“

बुलबुल की बात सुनकर ग्रीष्म खिलखिलाकर हंस पड़ी और बोली- ‘‘सच, तुम बहुत प्यारी लड़की हो, तुमने मेरा दिल खुश कर दिया। मैं तुम्हें कुछ इनाम देना चाहती हूँ। यह लो यह प्लेट तुम्हारे लिए हैं। इस प्लेट में उंगली रखकर जो खाने की इच्छा करोगी, वही हाजिर हो जाएगा।’’

यह कहकर ग्रीष्म सुंदरी गायब हो गई। बुलबुल बहुत खुश थी कि दो ऋतुएं उससे प्रसन्न होकर इनाम दे गई थीं। बुलबुल ने घमंड करना नहीं सीखा था। वह शांत स्वभाव की थी। वह सोने का प्रयास करने लगी, तभी उसे चिडि़यों की चहचहाहट सुनाई पड़ी। बुलबुल ने महसूस किया कि सुबह होने वाली है। वह रात को जगती रही थी, अतः उसे भूख महसूस हो रही थी।

बुलबुल ने प्लेट निकाल कर उस पर अपनी उंगली रख दी और इच्छा की कि उसके लिए दूध हाजिर हो जाए। उसने आंखें खोली तो देखा कि प्लेट में दूध भरा गिलास रखा था।

बुलबुल दूध खत्म करने ही वाली थी कि उसे यूं महसूस हुआ के उसके ऊपर पानी की बूंदे टपक रही हैं। बुलबुल ने सिर ऊपर उठाया तो देखा कि एक सुंदर स्त्री हरे कपड़े पहने खडी थी। वह स्त्री बुलबुल के पास आ गई थी। उसके कपड़े गीले थे और बालों से पानी टपक रहा था। वह बोली-”बुलबुल क्या तुम जानती हो कि मैं कौन हूं? मैं बताती हूं कि मैं कौन हूं?“

बुलबुल सुनकर थोड़ा हैरानी से देखने लगी, तभी स्त्री बोली-”मैं वर्षा ऋतु हूं। मेरे आने से चारों ओर हरियाली छा जाती है। हर पेड़-पौधे में जान आ जाती है। अच्छा, तुम बताओ कि तुम्हें बरसात का मौसम कैसा लगता है?“

बुलबुल हंसते हुए बोली-”अरे बारिश में तो मुझे बेहद आनंद आता है। मैं बारिश में खूब खेलती हूं, नृत्य करती हूं। पानी में कागज की नाव डालकर उनके पीछे-पीछे जाने में मुझे बहुत अच्छा लगता है। वर्षा ऋतु में मीठे जामुन मुझे बहुत भाते हैं।“

वर्षा ऋतु बोली-” यह बताओ कि क्या तुम्हारी मां तुम्हें वर्षा में नृत्य करने देती है? क्या वह तुम्हें प्यार करती हैं?“

बुलबुल बोली-”क्यों नहीं, मेरी मां बहुत अच्छी है और मुझे बहुत प्यार करती है। वह मुझे किसी काम को मना नहीं करती। मुझे मां के पास जाना है।“

यह कहकर बुलबुल रोने लगी। उसे मां की याद आने लगी थी।

वर्षा ऋतु बोली-”बेटी रोओ नहीं। मै। तुम्हें यह चटाई देती हूं। इस पर बैठकर तुम बिल्कुल अभी अपनी मां के पास पहुंच जाओगी। यह अंगूठी रख लो जो चमत्कारी है और सदैव तुम्हें मुश्किलों से बचाएगी।“

इतना कहकर वर्षा ऋतु ओझल हो गई। बुलबुल को अपनी मां की याद सता रही थी। उसने चटाई बिछाई और अपना सारा सामान लेकर उसके ऊपर बैठ गई। कुछ ही क्षणों में वह अपने घर पहुंच गई।

बुलबुल ने देखा कि उसकी मां पड़ोसियों को बुलबुल के गायब होने के बारे में बता रही थी, परंतु बुलबुल को सामने देखकर दुखी हो गई परंतु वह कुछ नहीं कर सकती थीं। बुलबुल ने ज्यों ही सारे उपहार मां को दिए तो मां खुश हो गई और उनके बारे में विस्तार से पूछने लगी।

बुलबुल ने सारी बातें मां को सच बता दीं। मां ने बुलबुल को अंगूठी जबरदस्ती उतारने की कोशिश की परंतु उतर न सकी। मां को लालच आ गया और उसने रीना को भी जंगल भेजने का निश्चय किया।

रीना को जंगल जाने में डर लगा रहा था, परंतु मां के कहने से व नए उपहारों के लालच में वह जंगल की ओर रवाना हो गई। वह चलते-चलते वहां पहुंच गई जहां बुलबुल गई थी।

रात को उसी प्रकार शरद् ऋतु स्त्री के वेश में आई और अपना प्रश्न रीना से पूछा कि कैसी लगती हूं। रीना ने कभी मीठा बोलना सीखा ही न था। उसने सोचा कि बुलबुल को सच बताने का इनाम मिला है। वह तुनकते हुए बोली-”मुझे सर्दी की ऋतु बिल्कुल अच्छी नहीं लगती। इस मौसम मैं धूप नहीं निकलती और मुझे धूप में बैठने की इच्छा होती है। ज्यादा सर्दी के कारण मैं अपनी सहेलियों के साथ खेल भी नहीं पाती। सर्दी में मैं बिस्तर में ही बैठी रहती हूं। मेरी बहन बुलबुल मेरा काम करती रहती है।“

सर्दी ऋतु क्रोधित होे उठी। उसने रीना को एक थैली और कम्बल दिया और गायब हो गई। रीना ने कम्बल ओढ़ा तो उसे यूं लगने लगा कि उसे कीड़े काट रहे हों। उसने देखा कि थैली में भी कीड़े भरे थे। थैली को फेंक कर वह सोने का प्रयास करने लगी, तभी ग्रीष्म संुदरी आ गई और पूछने लगी कि उसे गर्मी ऋतु कैसी लगती है।

रीना बोली-”यह ऋतु को बड़ी ही गंदी होती है। हरदम पसीना आता रहता है, मुझे तो ज्यादा गर्मी के कारण खेलने को भी नहीं मिलता। गर्मी के पसीने से भरे मेरे नए कपड़े खराब हो जाते हैं। गर्म लू के कारण मेरी तबीयत खराब हो जाती है।“

ग्रीष्म सुंदरी ने क्रोधित होकर उसे एक प्लेट दी और गायब हो गई। रीना ने प्लेट में ज्यों ही हाथ रखा प्लेट में तरह-तरह के कीड़े रंेेगने लगे। रीना ने घबरा कर प्लेट फेंक दी। चारों तरफ कीड़े रंेगने लगे तो रीना को डर लगने लगा।

तभी वर्षा सुंदरी आ गई। उसने भी रीना से वही सवाल पूछा कि उसे वर्षा ऋतु कैसी लगती है। रीना परेशान थी और समझ नहीं पा रही थी कि क्या जवाब दूं। वह बोली-”बारिश का मौसम सभी ऋतुओं में गंदा है। जगह-जगह पानी भर जाता है और मैं खेल नहीं पाती। कभी-कभी स्कूल भी नहीं जा पाती। बारिश में बदन चिपचिपा रहता है। खाने की चीजें सड़ने लगती है। और कुछ चीजें सीलकर बेस्वाद हो जाती हैं। सच मुझे वर्षा ऋतु से नफरत है।“

रीना का उत्तर सुनकर वर्षा ऋतु क्रोधित हो गई। उसने रीना को अंगूठी व चटाई दी ओर अन्तर्धान हो गई। रीना ज्यों ही चटाई पर बैठी उसे महसूस हुआ कि उसे आग लगी तपिश महसूस हो रही है। तभी उसने अंगूठी पहनी। अंगूठी से तेज आग निकली और रीना लपटों से घिर गई।

तभी रीना की मां वहां पहुंच गई, उसने मुश्किल से आग को बुझाया, रीना काफी जल चुकी थी। वह मां से बोली-”मां, तुमने मुझे कभी सही बातों की शिक्षा नहीं दी, मैं सदैव सबसे बुरा बोलती रही, बुलबुल को डांटती रही। तुम भी बुलबुल के साथ बुरा व्यवहार करती रहीं, तभी भगवान ने हमें यह सजा दी है।“

बुलबुल आकर अपनी बहन को प्यार करने लगी। यह देखकर मां को ऐहसास हुआ कि बुलबुल कितनी अच्छी लड़की है, उसके साथ दुव्र्यवहार करके मैंने गलती की है। मैं मां हूं और मां के लिए सारे बच्चे एक समान होते हैं। मैनंे रीना को अच्छी बातें न सिखाकर उसका भी बुरा किया और अपना भी।“

मां ने निश्चय किया कि अब वह दोनों बेटियों को समान प्यार करेगी। कुछ दिन मैं रीना ठीक हो गई और सब मिल-जुलकर सुख से रहने लगे।

Leave a comment

जैसी करनी वैसी भरनी (Mother refuses to help her wayward sons)

Ramina’s sons leave her and goes to city and gets involved in illegal activities. One day they all get into trouble and their mother refuse to help them out.

Moral of the Story: What you Sow is What you Reap.

Full Story in Hindi

एक गांव में रमीना अपने पति व चार बेटों के साथ रहती थी। वह अपने व अपने परिवार के साथ खूब खुशहाल थी। वह मध्यम आय वाला परिवार था। अतः रमीना परिवार की कमाई का अधिकांश भाग बच्चों की शिक्षा पर खर्च करती थी। पिता भी बच्चों को खूब प्यार करता था।

hindi short story for kids with moralएक दिन अचानक रमीना का पति बीमार हो गया। डाॅक्टरों वे वैद्य को दिखाया परंतु उन्हें उसकी बीमारी का पता नहीं लगा सका। फिर अचानक उसकी मृत्यु हो गई।

रमीना जैसे-तैसे अपने बेटों को बड़ा करने लगी। परंतु जैसे-जैसे वे बड़े होते हुए उन्हें शहर जाने का भूत सवार होने लगा। धीरे-धीरे वे गांव छोड़कर शहर चले गए। शहर में ही विवाह कर वहीं रहने लगे।

रमीना बूढी हो चुकी थी, परंतु उसने हिम्मत नहीं हारी थी। सिलाई-बुनाई का कार्य करके अकेली ही रहती थी। एक दिन वह रसोई में खीर बना रही थी। खीर कई घंटो से पक रही थी। तभी रमीना को थकान महसूत होने लगी। वह रसोई के पास आंगन में चारपाई डालकर उस पर लेट गई।

रमीना की अचानक आंख लग गई, क्योंकि वह दिन भर की थकी हुई थी। उसके पास घर के नाम पर एक कमरे का किराए का मकान था। उसका अपना मकान कब का बिक चुका था। उसे बेटों से शिकायत थी, परंतु वह कुछ कर नहीं सकती थी।

उसके चारों बेटे गांव को छोड़कर जा चुके थे। उन्हें वहां से गए वर्षों बीत गए थे और वे गांव के बारे में सब कुछ भूल चुके थे। परंतु वे वहां जाकर बेईमान बन गए थे।

चारों बेटे मिलकर घरों में चोरी करते थे, फिर माल बांट कर उसी से अपने परिवार का गुजारा करते थे। उन्हें न तो मां की फिक्र थी, न ही कोई सुध। मां का क्या हाल होगा, वह वे नहीं जानना चाहते थे।

चारों बेटे चोरी में इतने माहिर को चुके थे कि वे कभी पकड़े न जाते थे। एक दिन उन्होंने एक सर्राफ के यहां चोरी की और खूब मालामाल हो गए।

लेकिर चोर को तो चोरी के सिवा कुछ करना आता ही नहीं है। अतः वे आलसी बनकर उस माल पर ऐश करने लगे। कुछ ही दिनों में सारा धन और माल समाप्त हो गया। अब उन्हें फिर से धन पाने की चिंता सताने लगी।

एक दिन वे चोरी के इरादे से शाम को घर से निकले। तभी उन्हें एक युवक मिला। वह बोला-”तुम कहां जा रहे हो, मुझे भी साथ ले लो।“

चारों ने उसे इन्कार कर दिया। परंतु वह युवक उनकी खुशामद करने लगा और बोला, ”अच्छा भैया, तुम यह बता दो कि तुम कहां जा रहे हो?“

एक बेटा क्रोधित होकर बोला-”चोरी करने, चलोगे?“

”हां भैया, सब कुछ करूंगा। मैंने 5 दिन से खाना नहीं खाया है, जैसा कहोगे वैसा ही करुंगा। जो दोगे वही ले लूंगा। अपना हिस्सा भी नहीं मागूंगा।“

चारों भाईयों को बात जंच गई कि मुफ्त मंे नौकरी मिल रहा है जो चोरी में भी साथ देने को तैयार है। फिर वह अपना हिस्सा भी नहीं मांगेगा। उन्होंने युवक को साथ ले लिया, परंतु उसे समझाया-”देखो, तुम पहली बार चोरी, करने जा रहे हो, अतः कोई बेवकूफी मत करना।“

युवक तैयार हो गया और उन चारों के साथ चल दिया। चारों भाई चोरी के लिए मकान तलाश करने लगे। उन्होंने कई मकानों में घुसने का प्रयास किया परंतु हर घर में कोई न कोई जाग रहा था। अचानक उन्हें एक घर का दरवाजा खुला दिखाई दिया, वे उसमें घुस गए। वहां उन्होंने खूब जमकर चोरी की। घर का हर सामान एक चादर में बांध लिया, हालांकि घर में कोई भी कीमती सामान न था। परंतु वे चोरी करने निकले थे तो उन्हें कुछ न कुछ तो चुराना ही था।

तभी एक बेटे की रसोई की ओर नजर गई। वहां खीर पक रही थी चारों को लगा कि चलने से पहले गर्मागर्म खीर का मजा ले लेना चाहिए।

पांचों लोग खीर खाने में व्यस्त थे, तभी उनकी निगाह आंगन में सोई बुढि़या की ओर गई। चारों बेटे अपनी मां को पहचान न सके, क्योंकि इतने वर्षों में वह बूढ़ी हो चुकी थी। नया चोर युवक बोला-”भैया, यह बुढि़या कैसे हाथ पसारे सो रही है। लगता है यह कह रही है कि सारी खीर अकेले खा जाओगे, मुझे नहीं खिलाओगे।“

दूसरा बोला-”हां, और क्या, यह अपने लिए खीर पका रही है और हमने खत्म कर दी तो यह क्या खाएगी?“

तभी युवक तेजी से उठा और एक चम्मच खीर बुढि़या के हाथ पर रख दी। गर्म खीर हाथ पर रखते ही बुढि़या चिल्लाते हुए उठ बैठी। वह चिल्लाई-”बचाओ, मैं मर गई।“

उसकी आवाज सुनकर पांचों चोर घर के अलग-अलग कोनों में छिप गए। रमीना के चिल्लाने से बहुत सारे पड़ोसी दौड़े आए और पूछने लगे कि क्या हुआ। वह क्यों चिल्ला रही थी।

अचानक हाथ पर गर्म खीर रखने से और भीड़ इकट्टी होने से रमीना कुछ समझ ही न सकती कि क्या हुआ। वह नींद में थी। तभी एक पड़ोसी ने पूछा-”अम्मां क्या हुआ?“

रमीना बोली-”पता नहीं क्या हुआ, मैं तो सो रही थी। यह खीर मेरे हाथ पर कहां से आई, यह तो ऊपर वाला ही जाने।“

सभी चोर अलग कोनों में छिपे बुढि़या की बातें सुन रहे थे और घबरा रहे थे कि वे कहीं पकड़े न जाएं। युवक, जो नया चोर था और पहली बार चोरी करने निकला था, इत्तेफाक से ऊपर छत के किनारे छिपा बैठा था। रमीना की बात सुनकर उसे यूं लगा कि बुढिया ने उसे देख लिया है तभी कह रही है कि ऊपर वाला जाने। वह ऊपर छिपे-छिपे ही जोर से बोला-”मैं क्या जानूं, यह तो बाथरूम वाला जाने कि क्या हुआ।“

युवक की बात सुनकर बाथरूम में छिपा चोर घबरा गया कि वह पकड़ा जाएगा तो उसकी पिटाई होगी, वह स्वयं को बचाने के प्रयास में बोला-”मैं क्या जानूं, चारपाई के पीछे वाला जाने।“

तभी चारपाई के पीछे वाला बोल उठा-”वाह! मुझे क्यों फंसा रहे हो, मैं क्या जानूं सीढि़यों वाला जानता है कि क्या हुआ।“

सीढि़यों वाले ने भी तुरंत इसी तरह चिल्लाकर कहा-”मुझे क्यों फंसाते हो, मैं क्या जानूं कि क्या हुआ, यह तो बिस्तर के पीेछे वाला जानता है।“

सारे अड़ोसी-पड़ोसी व रमीन हैरान थी कि आवाज कहां-कहां से आ रही हैं। वे सब एक साथ झपट पड़े और पांचों चोरों को पकड़ लिया।

पांचों चोरों को जेल में डाल दिया गया। वहां पुलिस ने उनका अता-पता पूछा तो पता लगा कि उनमें से चार चोर तो रमीना के ही बेटे थे। चारां ने बहुत मिन्नत की कि उन्हें बख्स दिया जाय, परंतु रमीना ने कहा-”मैं बचाने वाली कौन होती हूं। जैसी करनी, वैसी भरनी।“

Leave a comment

मुक्ति (Andrei Marries a Frog)

A Russian folk story in which a father tries to find suitable brides for his 3 sons. Conflicts between his sons form rest of the story.

Complete Story in Hindi

एक गाँव में एक जार रहता था। उसके तीन बेटे थे। वह चाहता था कि उसके बेटों का विवाह बहुत सुन्दर और सुशील लड़कियों से हो। परंतु अपनी इच्छानुसार लड़कियां मिलना आसान नहीं था।

hindi short story for kids with moralएक दिन जार ने अपने बेटों को बुलाकर पूंछा- ‘‘तुम लोग कैसी लड़की से विवाह करना चाहते हो?’’

‘‘जी आप जिससे चाहें उससे हमारा विवाह कर सकते हैं।’’ तीनों बेटों ने नम्रतापूर्वक उत्तर दिया।

उत्तर सुनकर जार बहुत खुश हुआ। उसने मन ही मन एक योजना बनाई और अपने बेटों से कहा- ‘‘मैं तुम तीनों को एक-एक तीर देता हूं। सामने वाले मैदान में जाकर तुम इन तीरों को अलग-अलग दिशा में छोड़ो। जिसका तीर जहां गिरेगा। उसी घर की लड़की से उसे शादी करनी होगी।’’

तीनों राजी हो गये। तीनों ने अपना-अपना तीर अलग दिशाओं में छोड़ा। बड़े बेटे का तीर एक व्यापारी के आंगन में गिरा। जार और उसके पुत्र ने वहां पहुंचकर देखा तो व्यापारी की लड़की हाथ में तीर लिए खड़ी थी। जार ने अपने बड़े पुत्र का विवाह उस लड़की से कर दिया।

मंझले पुत्र का तीर एक मछुआरे के घर में गिरा। अतः उसकी बेटी से मंझले पुत्र का विवाह कर दिया गया।

तीसरे पुत्र एन्द्रेई का तीर हवा में तेजी से उड़ता हुआ जंगल की ओर चला गया था। पिता-पुत्र तीर खोजने के लिए जंगल की ओर चल पड़े। वहां एक तालाब के किनारे एक मेंढ़की तीर मुंह में लेकर बैठी थी। अब प्रश्न उठा कि एन्द्रेई का विवाह किससे किया जाए?

एन्द्रेई मेढकी के मुंह से तीर निकाल कर अपने पिता के साथ वापस जाने लगा। तब मेंढकी लड़की की आवाज में बोली- ‘‘क्या तुम मुझसे विवाह करोगे?’’

लड़की की आवाज सुनकर जार आश्चर्यचकित रह गया। उसने निश्चय किया कि एन्द्रेई का विवाह मेंढकी से ही किया जाएगाा और शीघ्र ही उसका विवाह कर दिया था।

दोनों बड़े भाई अपनी पत्नी के साथ बहुत खुश थे जबकि एन्द्रेई मेंढकी के साथ अपने कमरे में उदास बैठा रहता था। मेंढकी बोली- ‘‘तुम उदास क्यों होते हो? तुम्हारी किस्मत में मेरे साथ ही विवाह करना लिखा था, सो हो गया।’’

एन्द्रेई रोज चुपचाप दुखी मन से सो जाता। कुछ दिन इसी तरह बीत गए। एक दिन जार ने बेटों से कहा- ‘‘मैं तीनों बहुओं की परीक्षा लेना चाहता हूँ। तीनों बहुओं को मेरे लिए एक कमीज सिलनी होगी। शर्त यह है कि वह कल तक तैयार हो जानी चाहिए।’’

दोनों बेटे छोटे का मजाक उड़ाने लगे। फिर तीनों बेटे अपनी पत्नियों के साथ अपने कमरे में चले गए। बड़े दोनों बेटे अपनी पत्नी की सहायता करने में जुट गए। परन्तु एन्द्रेई कमरे में जाकर एक कोने में बैठ गया। उसे उदास देखकर मेंढकी बोली- ‘‘आप उदास क्यों होते हैं? आप सो जाइए।’’

एन्द्रेई दूसरी तरफ मुँह करके सो गया। मेंढकी ने रात को अपनी मेंढकी की खाल उतार दी और तान्या के रूप में सुन्दर राजकुमारी खड़ी हो गई। रात भर में उसने अपनी दासियों को बुलाकर सुंदर कमीज तैयार कर दी। फिर मेंढकी बन सो गई।

सुबह एन्द्रेई उठा तो पलंग के किनारे कमीज देखकर बहुत खुश हुआ। कमीज में सुन्दर कशीदाकारी की गई थी और रेशमी कमीज बहुत सुन्दर लग रही थी। वह कमीज को तह करके अपने पिता के पास पहुंचा तो देखा कि दोनों भाई वहां पहले ही पहुंच चुके थे।

जार ने तीनों कमीजें देख कर कहा- ‘‘बड़े बेटे की लाई हुई कमीज तो किसी नौकर के लायक लगती है, दूसरे बेटे की कमीज भी रात को पहन कर सोने के लायक है। एन्द्रेई की कमीज वाकई बहुत सुन्दर है। परन्तु तुम यह बताओं कि ये कमीज किसने सिली है।’’

एन्द्रेई ने पूरी बात बता दी परन्तु पिता व दोनों बेटों को यकीन नहीं हुआ। वे सोचने लगे कि शायद एन्द्रेई झूठ बोल रहा है। वह अपनी पत्नी की कमी छिपाने के लिए कमीज बाजार से खरीद कर लाया है या फिर मेंढकी कोई जादूगरनी है।

जार ने पुनः तीनों बहुओं की परीक्षा लेने का निश्चय किया। उसने तीनों बेटों से कहा कि वह अगले दिन तीनों बहुओं के हाथ का बना खाना खाएगा। पहली बहू का खाना सुबह, दूसरी बहु का खाना दोपहर एवं तीसरी बहू का बना भोजन शाम को खाएगा।

जार की बात सुनकर दोनों बड़े बेटे हंसते हुए अपने कमरे में चले गए परन्तु छोटा एन्द्रेई उदास होकर अपने कमरे में चला गया। दोनों की पत्नियां भोजन की तैयारी में लग गईं परन्तु वे साथ ही साथ यह भी जासूसी करती रहीं थी कि तीसरी वाली भोजन कैसे तैयार करती है।

मेढकी यह बात अच्छी तरह जानती थी। उसने पहले की भांति अपने पति को सुला दिया। स्वयं आटा गूंध कर सारा आटा धीमी आंच पर रख दिया और सोने चली गई। बड़ी बहुओं ने उसकी नकल करके उसी प्रकार आटा धीमी आंच पर रख दिया और सोने चली गई। बड़ी बहुओं ने उसकी नकल करके उसी प्रकार आटा रख दिया और सोने चली गईं।

उसके बाद उसने तान्या के रूप में अगले दिन के भोजन की सारी तैयारी अपनी दासियों के साथ मिलकर की और मेंढकी बनकर सो गई।

जार ने सुबह का भोजन बड़ी बहू के हाथ का खाया तो उसे यूँ लगा कि आज उसके दाँत ही टूट जाएंगे। उसने भोजन उसी प्रकार छोड़ दिया।

दोपहर के भोजन में भी उसी प्रकार हुआ। फिर जब शाम हो गई तो जार मेज पर भोजन करने बैठा। एन्द्रेई ने देखा कि मेज पर अनेक प्रकार के व्यंजन पहले ही से रखे हैें। उसने पिता के लिए भोजन परोसा और स्वयं भी खाने लगा। भोजन बहुत ही स्वादिष्ट था। दोनों लोग उंगलियां चाटते रह गए। परन्तु उन्हें स्वादिष्ट भोजन तैयार होने का रहस्य समझ में नहीं आया। वे बस भोजन की प्रशंसा ही करते रहे।

अगले सप्ताह जार का जन्मदिन था। उस दिन पूरे शहर को निमंत्रित  किया गया ताकि सबको तीनों बहुओं से भी मिलवाया जा सके। खूब बड़ी दावत का आयोजन किया गया।

दावत के वक्त सभी लोग सही वक्त पर पहंुचने लगे। दोनों बड़े बेटे अपनी पत्नियों के साथ दावत के लिए पहुंच गए।

एन्द्रेई उदास बैठा था। उसने मेंढकी से कहा- ‘‘मैं लोगों को तुमसे किस तरह मिलवाऊंगा? मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा है।’’

मेढकी बोली- ‘‘आप चलिए, मैं तैयार होकर आती हूं। आप देखिएगा कि आप ही नहीं पहचान पाएंगे।’’

एन्द्रेई ने आश्चर्यचकित होकर कहा- ‘‘फिर में तुम्हें कैसे पहचानूंगा?’’

‘‘मैं आकर आपका हाथ थाम लूंगी, मेढकी बोली।

एन्द्रेई विस्मित-सा होता हुआ दावत वाले कमरे में पहुंच गया। कुछ ही मिनटों में जार ने कहा- ‘‘ मित्रों! मैं आज आपको तीनों बहुओं से मिलवाना चाहता हूं।’’

फिर उसने बड़े बटे और बहू को बुलबाकर सबसे मिलवाया। एन्द्रेई का दिल घबरा रहा था कि अब मंझले भाई के बाद उसकी बारी है। तभी दरबाजे पर एक घोड़ा गाड़ी आकर रूकी। उस घोड़ा गाड़ी में रूपहले पंख लगे थे। वह मोतियों से जड़ी थी, छह घोड़े उसे खींच रहे थे। उसमें से अत्यन्त सुन्दर अफ्सरा जैसी तान्या उतरी तो सबकी निगाहें उसकी ओर मुड़ गईं।

तभी तान्या ने आकर एन्द्रेई का हाथ पकड़ लिया। सारा हाॅल तालियों से गूंज उठा। अब जार ने अपने मझले व छोटे बेटे और दोनों छोटी बहुओं का परिचय मेहमानों से करवाया।

एन्द्रेई खुशी से फूला नहीं समा रहा था। वह मौका पाकर अपने कमरे में गया और वहां जाकर मेढकी की खाल जला डाली। फिर वह दावत में आ गया।

दावत के बाद सब अपने-अपने घर खुश होते हुए चले गए। बेटे अपनी पत्नियों के साथ अपने कमरों में जाने लगे तो जार आश्चर्य से तान्या की ओर देखने लगा।

तान्या बोली- ‘‘पिताजी मैं किसी श्राप के कारण मेंढकी बन गई थी, आज एन्द्रेई ने मुझे उससे मुक्ति दिला दी है। यह आपका गुणी और होनहार बेटा है। उसे पति के रूप में पाकर मैं बहुत खुश हूं।’’

सब लोग सूखपूर्वक साथ-साथ रहने लगे।

Leave a comment

मेहनती लड़की (Marshall searches an intelligent bride for his son)

Marshall searches for a beautiful and intelligent bride for his son. Its an English folk tale.

Full Story in Hindi

इंगलैंड के एक गाँव मंे मार्शल नामक फलों का व्यापारी रहता था। उसका व्यापार बहुत अच्छा था। मार्शल का बेटा थामस पढ़-लिख कर अपने पिता के व्यवसाय में हाथ बंटाने लगा था। वह खूब मेहनती और होशियार था। पिता को अपने पुत्र की काबिलियत पर गर्व था।

hindi short story for kids with moralमार्शल की इच्छा थी कि उसके बेटे के लिए एक ऐसी लड़की मिले जो खूब मेहनती हो और उसे काम करने में आलस्य न आता हो।

मार्शल का मानना था कि ऐसी लड़की उसके बेटे और घर का ध्यान बहुत अच्छी तरह रख सकेगी। परन्तु समस्या यह थी कि ऐसी लड़की को कहाँ से ढूंढ़ कर लाया जाए। वह किसी दूसरे के बताने का यकीन भी नहीं करना चाहता था।

मार्शल ने मन ही मन एक योजना बनाई। उसने एक रेहड़ी पर ढेर सारे फल रखे और उसे लेकर स्वयं एक मोहल्ले में चला गया।

वहां जाकर मार्शल ने आवाज लगाई ‘‘ले लो, ले लो धूल-मिट्टी के बदले संतेरे, सेब, केले ले लो। ले लो, बिना पैसों के फल लो।’’

वह जिधर से निकलता, वहीं स्त्रियां घरों से बाहर निकलकर देखने लगतीं कि कौन मूर्ख है जो बिना पैसों के फल बेच रहा है। अनेक स्त्रियां आपस में खुसर-फुसर करने लगीं कि शायद यह लोगों को बेवकूफ बना रहा है। हो सकता है कि इसका कोई और मकसद हो।

उन स्त्रियों ने आपस में तय किया कि उनमें से एक को जाकर फल वाले को आजमाना चाहिए।

एक स्त्री ने फल वाले के पास जाकर पूंछा- ‘‘भाई यह धूल-मिट्टी का क्या चक्कर है? कितनी धूल-मिट्टी में कितने फल दोगे?’’

मार्शल बोला- ‘‘तुम जितनी ज्यादा धूल-मिट्टी लाओगी, उतने ही ज्यादा फल ले सकती हो।’’

स्त्री को यकीन नहीं हुआ वह फल वाले को रूकने को कहकर अपने घर में चली गई। उसने जल्दी-जल्दी घर में झाडू लगाई, कोनों में से मिट्टी निकाली और फल वाले के पास पहंुच गई। फल वाले ने उसे ढ़ेर सारे फल दे दिये।

अन्य स्त्रियों ने देखा तो उनमें फल लेने की होड मच गई। सभी स्त्रियां व लड़कियां खुश थीं कि कोई बेवकूफ उन्हें धूल के बदले मुफ्त में फल दे रहा है।

तभी एक लड़की फल वाले के पास पहुंची। फल वाले ने देखा कि वह खाली हाथ आई है तो उसने पूंछा- ‘‘क्या तुम्हें फल नहीं चाहिए।’’

उस लड़की ने सकुचाते हुए अपने हाथ में से रूमाल निकाला जिसमें मुश्किल से दो चुटकी धूल थी। वह बोली- ‘‘श्रीमान् जी, क्या इतनी धूल में भी आप कोई फल दे सकते हैं?’’

मार्शल बोला- ‘‘हां हां क्यों नहीं, तुम जो फल चाहो वो ले सकती हो। पर यह बताओ कि क्या तुम्हारे घर में सिर्फ इतनी ही धूल निकली?’’

लड़की शरमाते हुए बोली- ‘‘दरअसल, मेरे घर में तो बिल्कुल भी धूल नहीं थी। पड़ोस की आंटी ने मुझसे अपने घर की धूल इकट्ठी करने को कहा था ताकि मै। उनके लिए यदि कोई फल मिल सके तो ले लूं। आप इतनी धूल के बदले जो फल दे सकें, वह दे दीजिए।’’

मार्शल ने उस लड़की से कहा- ‘‘यह सारे फल तुम ले जा सकती हो। मैं तुम्हारे पिता से मिलकर तुम्हारा हाथ मांगना चाहता हूं। मैं तुम्हें अपनी बहू बनाना चाहता हूं।’’

लड़की ने अपने घर की ओर इशारा किया और शरमाती हुई घर में घुस गई। मार्शल ने उस लड़की को अपनी बहु स्वीकार कर लिया। इतने बड़े व्यापारी के घर में रिश्ता तय करके लडकी का पिता बहुत खुश था। इधर, मार्शल बहुत खुश था कि उसे इतनी मेहनती और होशियार लड़की बहू के रूप में मिल रही थी। जिसके घर में एक चुटकी धूल भी नहीं मिल सकी।

Leave a comment

मूर्खों की दुनिया (Karailchi searches biggest fool in the world)

A Bulgarian short story in which a person, after seeing foolishness of his wife and daughter, goes on to find biggest fool in the world.

Full Story in Hindi

एक गाँव में करैलची नाम का एक किसान रहता था। उसकी आमदनी इतनी अच्छी थी कि अपनी पत्नी और बेटी का पेट आसानी से पाल सके। करैलची ने अपनी बेटी किराली को बहुत लाड़-प्यार से पाला था। किराली अपने पिता को बहुत प्यार करती थी।

hindi short story for kids with moralकरैलची की पत्नी प्रतिदिन दोपहर को खाना तैयार करती और किराली भोजन लेकर अपने पिता के पास खेत पर जाती थी। पिता को अपने हाथ से भोजन खिलाकर ही वह घर वापस आती थी।

एक दिन किराली भोजन लेकर चली तो बहुत तेज धूप थी। रास्ते में एक पेड़ के नीचे बैठकर वह सुस्ताने लगी। तभी उसने देखा कि पेड़ पर एक बंदर बैठा है। बंदर ने अपने बच्चे को अपने सीने से लगाा रखा था। किराली सोचने लगी कि एक दिन उसका भी प्यारा-सा बच्चा होगा, वह अपने बच्चे का नाम ललगाालनो रखेगी। वह अपने ललगालनो को खूब प्यार करेगी।

तभी उसके मन में बुरे-बुरे खयाल आने लगे। वह सोचने लगी कि जब वह शैतानियाँ करेगा तो मुझे उस पर बहुत क्रोध आएगा। वह शैतानी करके इधर-उधर भागता फिरेगा। यदि किसी दिन वह सीढि़यों में भागने लगेगा तो सीढि़यों से गिर जाएगा। फिर मेरे ललगालनो को चोट लग जाएगी। अगर चोट ज्यादा लग गई तो वह मर जाएगा। ओह! मेरे ललगालनो का क्या होगा, यही सोचते-सोचते वह रोने लगी और बार-बार कहने लगी-‘‘मेरा ललगालनो मेरा ललगालनो।’’ वह घंटों बैठी रोती रही और अपने पिता का भोजन ले जाना भूल गई।

जब किराली बहुत देर तक घर वापस नहीं पहुँची तो उसकी माँ ने सोचा कि अपने पति को जाकर बताना चाहिए कि किराली घर वापस नहीं लौटी है। वह खेत की ओर चल दी।

रास्ते में उसने किराली को एक पेड़ के नीचे बैठकर रोते हुए देखा तो उसने अपनी बेटी के पास जाकर पूछा-‘‘बेटी, तुम रो क्यों रही हो?’’

किराली ‘मेरा ललगालनो’ कहकर रोती रही और अपने रोने का कारण मां को बताया। उसकी मां पूरी बात सुनकर बिना सोचे-समझे ‘मेरा ललगालनो’ कहकर रोने लगी। मां-बेटी दोनों बैठकर आंसू बहाने लगीं।

करैलची को दोपहर का भोजन नहीं मिला था। इस कारण उसे क्रोध आ रहा था। शाम होते ही वह घर के लिए वापस चल दिया। रास्ते में अपनी पत्नी व बेटी को रोता देखकर उसने सोचा कि जरूर कोई अनहोनी दुर्घटना घटित हो गई है, जिसके कारण दोनों रो रही हैं।

उसने धड़कते दिल से दोनों से रोने का कारण पूछा। कारण सुनकर वह क्रोध से पागल हो उठा। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि अपनी पत्नी और बेटी की मूर्खता पर वह हंसे या क्रोध में अपने बाल नोचे। वह चीखकर बोला-‘‘इस दुनियाँ में तुम लोगों से बड़ा मूर्ख और पागल कोई और नहीं मिल सकता। मैं जा रहा हूँ और तभी घर लौटूँगा जब तुम से भी बड़े मूर्ख से मिल लूं।’’

करैलची की पत्नी और बेटी किरानी उसके पीछे-खुशामद करने दौड़ीं, परन्तु करैलची तब तक दूर निकल चुका था। चलते-चलते करैलची पास के एक गांव में पहुँचा। उसने देखा कि एक जगह भीड़ लगी थी। उसने भीतर घुसकर कारण जानने का प्रयास किया तो पता लगा कि लोग एक तालाब के चारों ओर जमा थे। पानी में चांद दिखाई दे रहा था। अनेक व्यक्ति इस बात का दावा कर रहे थे वे चाँद को पकड़ कर दिखाएंगे।

हर व्यक्ति चांद पकड़ने की फीस देकर आगे आता, फिर पानी में चांद पकड़ने की कोशिश करता था। बाकी लोग दर्शक बनकर तालियां बजा रहे थे और चांद पकड़ने की बाजी का मजा ले रहे थे।

करैलची लोगों की मूर्खता देखकर आगे बढ़ गया। वहां उसने देखा कि एक बूढ़ी औरत का एक टिन के डिब्बे में हाथ फंस गया है। कई लोग उसका हाथ खींचकर निकालने का प्रयास कर रहे हैं।

बुढि़या दर्द के मारे चीख रही थी परंतु हाथ बाहर नहीं निकल रहा था। करैलची ने पूछा कि माजरा क्या है? उसे बताया गया कि डिब्बे में गेहूं भरे हैं और बुढि़या मुट्ठी में गेहूं भरकर निकालने का प्रयास कर रही थी। तभी उसका हाथ डिब्बे में फंस गया और वह अब निकल नहीं रहा है।

इतने में एक व्यक्ति बोला-‘‘मुझे हाथ बाहर निकालने की एक आसान तरकीब समझ में आ गई है। इससे बूढ़ी मां को थोड़ा दर्द तो होगा परंतु कम से कम हाथ तो बाहर आ जाएगा।’’

सबने पूछा-‘‘ऐसी कौन-सी तरकीब है।’’

‘‘हम बूढ़ी मां का हाथ काट देंगे। वरना उसे डिब्बे में हाथ फंसाए हुए ही पूरा जीवन बिताना पड़ेगा। मैं सोचता हूं हाथ काटना आसान है, डिब्बे में हाथ डालकर जिन्दगी बिताना कठिन है।’’

इतने में दूसरा व्यक्ति बोला-‘‘तुम तो कमाल करते हो भाई। इससे बेहतर तरकीब यह है कि डिब्बे को नीचे से काट दिया जाए।’’

करैलची ने लोगों की बात सुनकर माथा पीट लिया, वह बोला-‘‘दादी मां, अपनी मुट्ठी को खोलो और गेहूँ डिब्बे में छोड़ दो।’’

करैलची का इतना कहना था कि बुढि़या ने मुट्ठी से गेहूं छोड़ दिए और उसका हाथ बाहर निकल गया। लोग करैलची को धन्यवाद व इनाम देने लगे।

करैलची बहुत दुखी मन से घर की ओर यह सोचते हुए वापस चल दिया कि शायद इस दुनिया में मूर्खों की कमी नहीं है। जैसे अनेक लोग बड़े अक्लमंद होते हैं, ऐसे ही दुनिया में एक से एक बढ़कर मूर्ख भरे पड़े हैं।

Leave a comment