Why Submit Sitemaps and How to Submit Sitemap to Google Webmasters?

Sitemaps are collection of links contained in a website. It includes all pages, images, videos and files.

Why Sitemaps are important for websites?

By submitting sitemaps, website owners request Google to index all the included links so that it starts appearing in search results faster.

It’s not always necessary to submit sitemaps. But there are cases where pages are skipped by search engine bots and remain unindexed for months. This may happen either because the page isn’t properly linked from other pages or has a bad coding. Search engine bots follow links, it follows links and moves from one site to another and from one link in a site to another. So if a website isn’t linked to any website or very few websites, it’ll be less frequently visited and indexed by search engine bots.

Sitemap, in a way is a way of reaching out to search engines when they can’t reach us or reach us not that frequently.

How to create Sitemap?

The easiest way of creating sitemap is using xml-sitemaps.org. All you need to do is to enter your website name and submit. It’ll browse through the website and create sitemap in 4-5 minutes. Once completed, download the sitemap and upload to your website’s root folder. The only downside with this service is that it collects 500 urls only so if your website has more than 500 links including images then you need to find another option.

Second option is to create a free xml sitemap using php or use a WordPress plugin.

Sitemap Generated. What next?

Once the sitemap is generated, next step is to submit it to Google webmasters. It’s a Google service which allow website owners to manage their website, view stats and submit sitemaps.

After you’ve added your website, follow the steps to submit sitemap to Google webmasters,

1. Login to Google webmasters and select your website clicking the site name.

Submit Sitemap to Google Webmasters-step-1

2. Go to Crawl>Sitemaps.

Submit Sitemap to Google Webmasters- step 2

3. Click on the red ‘Add/Test Sitemap’ button. A text input will appear. Enter sitemap url on the server and click on ‘Submit Sitemap’. You could also test sitemap before submitting using ‘Test Sitemap’ button.

Submit Sitemap to Google Webmasters-step 3

Submit Sitemap to Google Webmasters-step 4

4. A message of successful sitemap submission will appear. And that’s it. You’ve successfully submitted sitemap for your website to Google webmasters.

5. All the pages will index within 24 hours and it’ll start appearing in search engine results.

Submit Sitemap to Google Webmasters-step 5

Leave a comment

PHP Code Generating Free XML Sitemap for WordPress Site (without plugin)

Sitemap is a collection(or a map) of all links present in a website. For a WordPress site, its a collection of published posts, pages and images contained in them.

PHP Code to Create Sitemap for WordPress for free

There is no service that provides free sitemap creation except for xml-sitemap which is limited to 500 urls.

Using PHP, we can create a free xml sitemap in minutes . All we have to do is to fetch all weblinks from database and save to a file in XML format defined by sitemap.org and complied by all search engines.

Here is a sample PHP code generating free xml sitemap for WordPress site.

<?PHP
makeDbConnection( 'wp_host', 'wp_username', 'wp_password', 'wp_database_name' ); // Database Connection
$published_posts = getPublishedPosts(); // Get a list of published post links
$sitemapInfo = generateFreeXMLSitemap( $published_posts ); // Create Sitemap
?>

1. makeDbConnection makes a connection to the database of your WordPress site.

Replace wp_host with your database host (most likely ‘localhost’), wp_username, wp_password and wp_database_name with username, password and database name of your WordPress site respectively.

You’ll find all these in your wp-config.php file of WordPress folder.

<?PHP
// Make Database Connection
function makeDbConnection( $host, $username, $password, $dbname ) {
	$con = mysql_connect( $host, $username, $password );
	$selectdb = mysql_select_db( $dbname, $con );
	mysql_set_charset( 'utf8' );
	if( !$con && !$selectdb ) {
		die( " DATABASE CONNECTION FAILED " );
	}
}
?>

2. getPublishedPosts gets a list of all published posts to be included in the sitemap. The function can also be used to get a list of pages and images with slight change of code (Explained Below).

<?PHP
// Get Published Post Links
function getPublishedPosts() {
	$q = mysql_query("SELECT * FROM wp_posts WHERE post_status='publish' AND post_type='post'");
	// For pages
	// $q = mysql_query("SELECT * FROM wp_posts WHERE post_status='publish' AND post_type='page'");
	// For images
	// $q = mysql_query("SELECT * FROM wp_posts WHERE post_status='inherit' AND post_type='attachment' AND post_mime_type like '%image%'");
	$posts_url = array();
	while( $r = mysql_fetch_assoc( $q ) ) {
		array_push( $posts_url, $r['guid'] );
	}
	return $posts_url;
}
?>

3. generateFreeXMLSitemap creates our free sitemap in xml format.

<?PHP
// Create Free XML Sitemap
function generateFreeXMLSitemap( $results ) {
	$smap = '<?xml version="1.0" encoding="UTF-8"?>'; // XML Decaration
	$smap .= "\r\n".'<urlset
      xmlns="http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9"
      xmlns:xsi="http://www.w3.org/2001/XMLSchema-instance"
      xsi:schemaLocation="http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9
      http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9/sitemap.xsd">';
	$smap .= "\r\n"."<!-- Generating Free XML Sitemap for WordPress Blog -->";
	foreach( $results as $p_url ) {
		static $count_listed_posts_url = 0;
		++$count_listed_posts_url;
		$smap .= "\r\n<url>";
				$smap .= "\r\n\t<loc> $p_url </loc>";
		$smap .= "\r\n</url>";
	}
	$smap .= "\r\n</urlset>";
	$sitemap_file = fopen( 'sitemap.xml', 'w' ); // Create XML file to include sitemap info
	$written_to_sitemap = fwrite( $sitemap_file, $smap );
	fclose( $sitemap_file );
	return array( 'status_listed_posts_url' => $written_to_sitemap, 'count_listed_posts_url' => $count_listed_posts_url );
}
?>

That’s it. Just copy and paste the above code anywhere on your web-server and run. Your free xml sitemap will be created besides the php file ie in the same folder.

php-code-generating-free-xml-sitemap-wordpress-site

Next goto Google webmasters and upload sitemap and Google will index all links within 24 hours.

Why Sitemap Submission is important for Websites?

By submitting sitemap, you tell search engines like Google, Bing and Yahoo that my website has these content and index them asap so that it starts appearing in search results immediately.

Submitting sitemap isn’t compulsory. But there are instances where a page remain unindexed for days and months. This happens mainly with new sites or with sites publishing content in days and weeks. This may also happen when, due to some reason, search engines fail to find your website content. To avoid such situation, its always advisable to submit sitemap to search engines on regular basis.

Leave a comment

एक मशहूर ठग (Dalla Cheats People)

Story of a girl called Dalla who used to cheat people using clever tricks. Its a lesson for people who believe unknowns and lose money.

Complete Story in Hindi

एक औरत थी डल्ला। वह बहुत बड़ी ठग थी। अपनी चालाकी से लोगों को ठगना उसके लिए बाएं हाथ का खेल था। वह चुटकियों में लोगों को बेवकूफ बना देती थी।

hindi short story for childrenएक बार वह एक गली से गुजर रही थी कि उसे एक सभ्य पुरूष आता हुआ दिखाई दिया। उस व्यक्ति ने किसी मित्र का पता उससे पूछा। परन्तु बातों-बातों में डल्ला ने जान लिया कि वह एक धनी व्यापारी है और व्यापार के सिलसिलें में कहीं बाहर जा रहा है। डल्ला ने स्वयं को उस मित्र की बहन के रूप में प्रस्तुत किया और पता बताने के बहाने गलियों में इधर-उधर घुमाने लगी।

कुछ ही देर में व्यापारी को डल्ला की बातों से यकीन हो गया कि वह उसके मित्र की बहन हैं और अपने धन का एक बड़ा थैला उसके हाथ में पकड़ा दिया। दोनों साथ-साथ चल रहे थे तभी एक पतली-सी गली के घर को दिखाकर डल्ला गली में घुस गई। व्यापारी भी गली में घुस गया। एक घर का दरवाजा खुला देख डल्ला उसमें घुस गई और व्यापारी भी अंदर चला गया।

घर में घुस कर डल्ला कहीं नजर नही आई। व्यापारी ने अपने मित्र को आवाज लगाई, परन्तु वहां कुछ दूसरे लोग निकलकर आ गए। उस नाम का कोई व्यक्ति वहां नहीं रहता था। व्यापारी ने बताया कि एक स्त्री उसे मित्र की बहन बताकर यहां लाई है, परन्तु लोगों ने व्यापारी को झूठा, बदमाश, लुटेरा समझकर पीटना शुरू कर दिया।

फिर भी व्यापारी को डल्ला कहीं दिखाई नहीं दी और वह पिट कर डल्ला को ढूंढ़ता हुआ वापस आ गया। उसे उसने रूपयों से भरा थैला जो पकड़ा दिया था, परन्तु डल्ला कहीं नहीं मिली। दरअसल, डल्ला घर में घुसते ही दरवाजे की बगल में खड़ी हो गई थी और व्यापारी के भीतर घुसने पर तथा लोगों से बातचीत करने के बीच मौका पाकर धन लेकर चुपचाप खिसक गई थी।

अब डल्ला ने एक बड़े सर्राफ को लूटने की योजना बनाई। उसने अच्छे-अच्छे कपड़े खरीदकर पहने और बाजार में बग्घी पर बैठकर निकल गई। सर्राफ की दुकान पर एक स्त्री की गोद में बच्चा देखकर उसे खिलाने लगी। बच्चा उसकी गोद में आ गया।

डल्ला ने कहा कि वह सामने वाली दुकान में कुछ जेवर खरीदने जा रही है, तब तक बच्चा उसके पास ही खेलता रहेगा। बच्चे के मां-बाप सामने की दुकान पर ही थे। अतः डल्ला को बच्चे को साथ ले जाने की अनुमति दे दी। मां-बाप ने देखा कि डल्ला सर्राफ की दुकान में जा रही है और उन्होंने सामने की दुकान से उसे अंदर जाकर बैठते देखा तो सोचा कि बच्चे को अभी ले लेंगे।

भीतर जाकर डल्ला खुद को बहुत बड़ा रईस बताकर सर्राफ से महंगे-महंगे ढेरो आभूषण देखने लगी। कुछ ही देर में डल्ला ने कहा कि उसके पति अगली दुकान पर हैं, वह उन्हें जेवर पसन्द करवा कर अभी लाती है। सर्राफ ने जेवर ले जाने को मना कर दिया तो डल्ला ने कहा, ”ठीक है, मेरा बच्चा आपसे पास यहीं पर है। सर्राफ ने जेवर ले जाने को मना कर दिया तो डल्ला ने कहा, ”ठीक है, मेरा बच्चा आपके पास यहीं पर है और मेरी बग्घी आपकी दुकान के सामने खड़ी है।

सर्राफ ने सोचा कि औरत अपना बच्चा लेने तो जरूर आएगी, अतः डल्ला को जेवरों के डिब्बे ले जाने की इजाजत दे दी। कुछ देर तक डल्ला के न आने पर सर्राफ को फिक्र होने लगी। इतने में बच्चा रोने लगा। सामने की दुकान से मां-बाप दौड़े आए और बच्चे को गोद में उठाने लगे।

सर्राफ गुस्से में बोला-”तुम लोग यह क्या करते हो? बच्चे की मां को तो आने दो।“

मां-बाप के समझाने पर भी सर्राफ नहीं माना। परंतु बच्चा उनके पास जाकर चुप हो गया तो सर्राफ को मानना पड़ा। फिर उन्होंने बग्घी वाले से पूछा कि उनकी मालिकिन कहां है और कितनी देर में आएगी। बग्घी वाले ने बताया कि एक स्त्री ने किराये पर एक बग्घी ली थी और अंदर सर्राफ की दुकान पर गई थी। वह उसी स्त्री का इंतजार कर रहा है।

इतनी जांच-पड़ताल करते बहुत देर हो चुकी थी और उल्ला जेबर लेकर बहुत दूर तक जा चुकी थी। अब डल्ला को अगले शिकार का इंतजार था।

एक दिन उसने एक योजना बनाकर अच्छे पकवान व मिठाई बनाई। फिर साधारण कपड़ेपहनकर खेतों में काम करने चली गई। उधर से उसने एक राहगीर को धन ले जाते देखा तो कुछ विचार कर उससे मीठी भाषा में बोली-”भैया, इतनी गर्मी में कहां जा रहे हो?“

वह बोला-”शहर जा रहा हूं। अपनी दुकान के लिए कुछ माल खरीदना है।“

”भैया अभी तो बड़ी धूप हो गई है, यहीं पास में मेरा घर है, वहां चलकर पानी-वानी पीकर चले जाना।“

वह व्यक्ति राजी हो गया तो डल्ला ने हाथ में एक शरगोस लेकर जोर से कहा-”जाओ, घर पर रसोइए से कहना मेहमान आए हैं। अतः उसका अकेले का नहीं मेहमान का भी खाना बनाए। हां, खाने में कढ़ी-चावल जरूर हो। मिठाई में हलवा और गुलाब जामुन जरूर हों।“

यह कहकर डल्ला ने खरगोस को जमीन पर छोड़ दिया। खरगोश बहुत तेज भागा और कुछ ही सेकंड में आंखों से ओझल हो गया।

थोड़ी देर बातचीत के बाद डल्ला राहगीर के साथ घर की ओर चल दी। घर जाकर डल्ला ने राहगीर को घड़े का ठंडा पानी पिलाया और वे सब पकवान राहगीर के आगे रख दिए जो उसने खरगोश को बताए थे। राहगीर यह सब देखकर हैरत में पड़ गया।

इतने में डल्ला भीतर के कमरे से खरगोश को हाथ में लेकर आ गई और भोजन करते समय राहगीर से बातें करने लगी। राहगीर को खरगोश देखकर लालच आ गया। वह सोचने लगा कि उसे भी अपनी दुकान से घर कितनी ही खबर भिजवानी होती है। यह खरगोश उसके बहुत काम आएगा।

वह डल्ला से बोला-”मैं यह खरगोश खरीदना चाहता हूं।“

डल्ला बोली-”यह तो बहुत काम का खरगोश है। मैं से नहीं बेच सकती। मेरे पास एक यही तो खरगोश है जो मेरी देखभाल करता है। मैं इसे तुम्हें कैसे दे सकती हूं?“

राहगीर डल्ला की खुशामद करने लगा-”मेरे पास पांच सौ अशर्फी हैं, तुम इस खरगोश के बदले में सौ अशर्फी ले सकती हो।“

डल्ला नहीं मानी, तो धीरे-धीरे 200, फिर 300 अशर्फी तक बात पहुंच गई। राहगीर को अब खरगोश का सौदा सस्ता लगने लगा कि बरसों तक नौकर का काम करेगा। राहगीर ने सोचा कि मैं दुकान का सामान फिर खरीद लूंगा, इस बार तो मुझे खरगोश ही खरीदना है।“

वह पांच सौ अशर्फी देकर खरगोश लेकर चला गया। अपने गांव जाकर उसने गांव के बाहर से ही खरगोश को छोड़ते हुए जोर से कहा-”घर जाकर कहना, मैं थोडी देर में आ रहा हूं। मक्के की रोटी सरसों का साग बना ले।“ फिर वह रास्ते में कुछ काम करता हुआ आधे घंटे में घर पहुंचा तो वहां खरगोश पहुंचा ही नहीं था, न ही उसकी पसंद का खाना बना था।

उस राहगीर को बहुत गुस्सा आया कि आखिर खरगोश गया कहा? वह अपने जिस मित्र को बताता कि वह ऐसा खरगोश लाया था, वही उसका मजाक बनाता। उसने सोचा, लौटकर उस औरत की अक्ल ठिकाने लगाई जाए, जिसने उस ठग लिया था।

वह डल्ला के घर पहुंचा तो खरगोश देखकर चैंक गया। डल्ला अपनी ठगी जानती थी। उसने एक जैसे कई खरगोश पाल रखे थे। वह जानती थी कि राहगीर वापस जरूर आएगा। राहगीर ने ज्यों ही क्रोधित होकर खरगोश के बारे में पूछा। डल्ला बोली-”तुमने खरगोश को अपना पता बताया था?“

राहगीर बोला-”नहीं।“ तो डल्ला ने कहा-”तभी खरगोश यहां वापस आ गया, इसे ले जाओ।“ राहगीर को डल्ला की बात जंच गई और उसने खरगोश ले लिया।

राहगीर इस बार एक मित्र को भी साथ लाया था। उन दोनों ने देखा कि डल्ला के आंगन में एक पेड़ लगा है, जिसमें पैसे ही पैसे लगे हैं और डल्ला ने उसमें से दो-चार पैसे तोड़े और घर के भीतर चली गई।

दोनों मित्रों को पैसों का पेड़ देखकर लालच आ गया। वे डल्ला से बोले-”यह कौन सा पेड़ है?“

डल्ला से हंसते हुए कहा-”तुम्हें किस चीज का लगता है?“ दोनों मित्र बोले, ”पैसों का।“ डल्ला हंसने लगी। दोनों ने कुछ देर बाद देखा कि उसमें पैसे और भी ज्यादा हो गए थे। वे सोचने लगे कि जैसे नई कलियां फूल बनती जाती हैं, वैसे ही नए पैसे उगते जा रहे हैं।

वे डल्ला से वह पड़े मांगने लगे। डल्ला ने साफ इन्कार कर दिया। राहगीर सोचने लगा कि यदि यह पेड़ मिल जाए तो व्यापार का सारा घाटा पूरा हो जाएगा और पेड़ लेने की जिद करने लगा। दोनों मित्रों ने अपने साथ लाया सारा धन देकर पेड़ खरीद ही लिया। लेकिन शर्त के मुताबिक उल्ला ने पेड़ में पहले से लगे सारे पैसे तोड़ लिए।

दोनों मित्र पेड़ लेकर घर पहुंचे। लेकिर घर तक पहुंचते-पहुंचते पेड़ मुरझा गया। उन लोगों ने उस पेड़ की खूब सेवा की, पानी दिया। परंतु न पेड़ हरा हुआ, न ही उसमें पैसे निकले। ढूंढने पर डल्ला का कहीं पता न लगा, वह वहां से दूर जा चुकी थी।

वह एक सराय में ठहरी। एक 14-15 साल के लड़के को रूपयों का लालच देकर अपने साथ मिला लिया। बाजार से दो तरह के सुंदर डंडे खरीदे और योजना बनाकर रात को एक डंडे से उस लड़के को जोर-जोर से मारने लगी। शोर सुनकर अनेक लोग दौड़़े गये।

लोगों ने देखा कि लड़का कुछ ही देर में अधमरा-सा होकर गिर पड़ा। डल्ला चिल्ला- चिल्लाकर कर रही थी-”मेरा कहना नहीं मानता, बोल अब मानेगा।“ सबने सोचा कि अपने बेटे का कहना न मानने के कारण मार रही है। परंतु इतना अधिक मारने पर सभी डल्ला का बुरा-भला कहने लगे।

तभी डल्ला ने थैले से दूसरा डंडा निकाला और लड़के के ऊपर उस रंगीन डंडे को घुमाकर बोली-”घुमड़ घू, घुमड़ घूं।“ लोग आश्चर्यचकित होकर देखते रह गए, क्योंकि लडका उठकर बैठ गया फिर कान पकड़ते हुए बोला-”मां, अब मैं कहना मानूंगा।“

लोग अपने-अपने कमरों में चले गए तो उसी सराय में ठहरा एक धनी किसान डल्ला के पास आया। वह शहर में फसल बेचकर पैसा लेकर घर जा रहा था। वह डल्ला से बोला-”मेरी पत्नी मेरा कहना बिल्कुल नहीं मानती, यह डंडा मुझे दे दो। चाहो तो इसकी कीमत ले लो।“

”नहीं, यह तो जादुई डंडा है। यह मैं नहीं दे सकती। डल्ला ने इन्कार करते हुए कहा। वह किसान नहीं माना। आखिर भाव बढ़ाते-बढ़ाते वह पांच सौ अशर्फी देने को तैयार हो गया। डल्ला ने नखरे दिखाते हुए वह दोनांे डंडे किसान को दे दिए। अगले दिन किसान ने अपनी पत्नी की खूब पिटाई की तो वह अधमरी होकर गिर गई। बाद में दूसरे डंडे से वह ‘घुमड़ घंू’ करता रहा, परंतु पत्नी न उठी। सारे पड़ोसी इकट्टे हो गए और किसान को गालियां देने लगे।

किसान की पत्नी को बहुत दिन तक अस्पताल में रहना पड़ा। किसान ने डल्ला को बहुत ढूंढा, परंतु वह चकमा देकर कहीं दूर जा चुकी थी।

इसीलिए कहा गया है कि किसी की अनजान बातों में यूं ही नहीं आना चाहिए, कौन जाने वह तुम्हें ठग ही रहा हो।

Leave a comment

कंजूस-मक्खीचूस (Miser Shamshad realizes his Mistake)

Story of miser Shamshad who realizes the true meaning of living a healthy life which is by working hard, generating income and spending whenever required.

Moral of the Story: True meaning of living a healthy life.

Full Story in Hindi

एक नगर में शमशाद नाम का एक व्यापारी रहता था। उसका कारोबार दूर-दूर तक फैला था। वह बहुत अमीर था। लेकिन वह पहले दर्जे का कंजूस था। एक-एक पैसा वह देखभाल कर खर्च करता था।

hindi short story for children with moraशमशाद इतना कंजूस था कि भोजन में सूखी रोटी एक सब्जी के साथ खाता था। घर के बने सीधे-सादे कपड़े पहनता था। घर में कोई नौकर-चाकर नहीं रहता था। सारा काम उसकी पत्नी स्वयं करती थी। उसकी कोई संतान नहीं थी।

उसे जहां कहीं जाना होता, पैदल जाता। सभी लोग जानते थे कि वह बहुत धनी परंतु कंजूस है। लोगों ने उसका नाम मक्खीचूस रख छोड़ा था। वह जैसे-तैसे जो भी कमाता, उससे सोने के सिक्के बनवा लेता।

शमशाद के घर के पीछे एक बडा बगीचा था। वहां वह रोज सुबह-शाम सैर करने जाता था। उसी बगीचे में कए पेड़ के नीचे उसने एक बड़ा-सा घड़ा मिट्टी में दबा कर रखा हुआ था। जो भी दौलत वह इकट्टी करता, सोने के सिक्कों के रूप मंे उस मटके में डाल देता।

शाम हो जाने पर वह घर में केवल एक दीया ही जलाता था। यदि उसे या उसकी पत्नी को घर के किसी दूसरे कोने में काम हो तो उसे वही दीया उठाकर ले जाना पड़ता था।

शमशाद अपनी जोड़ी हुई दौलत के बारे में किसी को नहीं बताता था। यहां तक कि उसकी पत्नी को भी इस बात का आभास न था कि उसका पति इतनी दौलत इकट्टी कर रहा है। वह समझती थी कि उसके पति का कारोबार मंदा है। इस कारण वे रूखा-सूखा भोजन खाकर रहते हैं।

शमशाद की पत्नी शहनाज बेचारी बहुत सीधी-सादी थी। वह घर से बाहर नहीं निकलती थी। इस कारण वह यह भी नहीं जानती थी कि लोग उसके पति को कंजूस-मक्खीचूस नाम से पुकारते हैं। उसकी इच्छा होती कि वह नए-नए कपड़े पहने, आभूषण बनवाए। लेकिन पति की आमदनी बहुत कम जानकर वह किसी भी चीज की फरमाइश अपने पति से नहीं करती थी।

यदि किसी वक्त भोजन में सब्जी या रोटी बच जाती थी तो शमशाद से फेंकने न देता था। वह उसी बचे भोजन से दूसरे वक्त पेट भर लिया करता था। कंजूसी का आलम यह था कि वह घर में जूते या चप्पल पहनना पंसद नहीं करता था। वह कहता था-”जूते जितना कम पहनूंगा उतने त्यादा समय साथ देंगे। घर में जूते-चप्पल की क्या जरूरत है? बिना बात घर में पहनने से वे घिसेंगे ही।“

बाजार में नाई से बाल कटवाने जाता तो सारे बाल सफाचट करा आता ताकि कम से कम 6 महीने तक नाई के पास जाने का झंझट ही न रहे। घर के दरवाजों या खिड़कियों को तब तक बंद न करता, जब तक बहुत ज्यादा जरूरत न होती, उसका विचार था कि बार-बार दरवाजा खोलने बंद करने से दरवाजों के जोड़ घिस जाते हैं। भीतर पहनने के कपड़े रोज नही धुलवाता था। उन्हें एक दिन एक तरफ से पहनता था, दूसरे दिन पलट कर दूसरी तरफ से ताकि साबुन का खर्च बचे।

शमशाद हर रोज पैसा बचाकर कंजूसी करने की नई-नई तरकीब सोचा करता था। वह सुबह-शाम बगिरया में टहलने जरूरत जाता था। शहनाज सोचती थी कि शमशाद अपनी सेहत बनाने की खारित बगीचे में जाता है परंतु शमशाद का कुछ अलग ही मकसद होता था। वह लगभग हर रोज धन रखने या उसे देखने के लिए जाता था। यदि संभव होता तो उन सिक्कों को गिन कर भी आता था। यदि कभी जल्दी में होता तो जमीन से मिट्टी इटा कर मटके में रखी अशर्फियों को निहारता, फिर बंद करके चला आता।

यह सिलसिला काफी समय से चा आ रहा था। परंतु एक दिन एक चोर ने बगीचे की दीवार से शमशाद सेठ को पेड़ के नीचे धन छिपाते हुए देख लिया। उसकी निगाह उस धन पर अटक गइ और रात होने का इंतजार करने लगा। रात होते ही चोर पूरे मटके की सारी अशर्फिया निकालकर नौ दो ग्यारह हो गया।

सुबह को शमशाद चोरी की वारदाता से बेखबर बगीचे में सैर करने पहुंचा। जब वह उस पेड़ के पास पहुंचा तो उसका कलेजा धक् से रह गया। जहां उसका मटका था, वहां मिट्टी खुदी हुई थी और खाली मटका दिखाई दे रहा था।

शमशाद ने साचा कि जल्दी से घर जाकर पहले पत्नी, फिर पुलिस को इसकी खबर दूं, परंतु पैर थे कि दुख और घबराहट के मारे आगे बढ़ने का नाम ही नहीं ले रहे थे। वह दो-चार कदम ही चला था कि बेहोश होकर गिर गया। जब बहुत देर तक वह घर नहीं पहुंचा तो उसकी पत्नी बगीचे में पहुंची।

जैसे-तैसे पड़ोसियों की सहायता से शमशाद को घर लाया गया। सदमे के कारण बह बीमार पड़ गया। हर रोज वैद्य उसे देखने आता, परंतु दवा का कोई लाभ नहीं हो रहा था। उसने पत्नी को चोरी के बारे में बताया तो सुन कर सन्न रह गई। वह भी धन की चोरी की बात सुनकर दुखी रहने लगी।

शमशाद की बीमारी का हाल सुनकर उसका परम मित्र घनश्याम उससे मिलने आया। जब उसने मित्र की आपबीती सुनी तो वह समझ गया कि शमशाद की बीमारी का कारण धन की चोरी का सदमा है। उसने तुरंत वैद्य का इलाज बंद करा दिया।

घनश्याम शमशाद से बोला-”तुम जानते थे कि तुमने धन कहां रखा है। वह बताओ कि तुम उस धन को क्यों इकट्टा कर रहे थे।“

शमशाद बोला-”अपने लिए।“

घनश्याम बोला-”अपने लिए? अपने लिस कैसे, तुम अपने लिए तो धन खर्च करते ही नहीं थे।“

शमशाद बोला-”अपने भविष्य के लिए धन जोड़ रहा था, ताकि जब मैं बूढ़ा हो जाऊं तो वह धन मेरे काम आए और यदि इस बीच मुझे कोई संतान हो जाए तो संतान को मेरी सम्पत्ति और खजाना मिल जाए।“

घनश्याम बोला-”जब तुम इस उम्र में उस धन का उपयोग नहीं कर रहे थे जो बुढा़पे के लिए उसका मोह कैसा? अच्छा, अब मेरा कहना मानो और भूल जाओ कि तुम्हारा धन चोरी हुआ है। जैसे रूखा-सूखा खाते थे, वैसा ही खाते रहा। जैसे सादे कपड़े पहनते थे , वैसे पहनते रहो।“

शमशाद जल्दी से बाल काटते हुए बोला-”यह कैसे हो सकता है? मेरा धन तो चला ही गया, मैं कैसे शांत रह सकता हूँं?“

घनश्याम ने एक बार फिर अपने मित्र को समझाने का प्रयास किया-”मित्र, जिस धन का तुम्हारे लिए उपयोग नहीं था, वह बेकार ही था। अब वह धन तुम्हारे पास रहे या किसी और के, इससे क्या फर्क पड़ता है। हो सकता है कि वह चोर उस धन को गाड़ कर रखने के बजाए अपने परिवार के लिए खर्च करे।“

अब तुम यह सोचो कि धन वहीं मटके में रखा है और यदि पहले जैसी जिंदगी बसर करना चाहो तो वैसी जिंदगी बसर करो और यदि तुम्हें इस चोरी से कुछ शिक्षा मिली हो तो आगे से जितनी कमाई करो, अपने व भाभी के सुख के लिए उस धन का उपयोग करो। कल का क्या भरोसा? पहली बात तो तुम्हारी संतान ही नहीं हैं, यदि हो भी तो तुम क्यों उसके लिए जोड़-जोड़ कर स्वयं को दुख देते हो। संतान लायक होगी तो खुद ही कमा कर खा लेगी। मुफ्त में मिली दौलत से तो संतान बिगड़ जाती है और उस धन को अय्याशी में बरबाद कर देती है।“

शमशाद को मित्र की बात समझ मे आने लगी। धीरे-धीरे वह चुस्त और स्वस्थ हो गया। उसे समझ में आ गया कि जो मजा स्वयं कमा कर खर्च करने में है, वह जोड़ कर रखने में नहीं। इसके बाद वह अपनी कमाई से उचित खर्च करके पत्नी के साथ सुख और आराम से दिन गुजारने लगा।

Leave a comment

तीसमार खां (Tees Maar Khan)

Popular folk tale of a guy called Funtoosh who becomes famous because of his boasting. The story tell us how sometimes people believe what they hear rather than seeing and realizing the fact by themselves.

Complete Story in Hindi

फन्टूश एक शैतान और नटखट लड़का था। उसका पढ़ाई में बिलकुल मन नहीं लगता था। घर बाले उसे समझाते थे कि यदि तुम पढ़ोगे-लिखोगे नहीं तो तुम्हारा जीवन व्यर्थ हो जाएगा। वे कहते थे कि पुस्तकों में ज्ञान का भंडार है, ये तुम्हें ऐसी बातों का ज्ञान कराती हैं जिनका ज्ञान कोई व्यक्ति आसानी से नहीं करा सकता।

hindi folk tale for kids with moralपरंतु फन्टूश था कि इस ओर ध्यान ही नहीं देता था। कभी-कभी उसे लगता कि उसके पिता सही कहते हैं। उसे ध्यान से पढ़ाई करनी चाहिए और वह उसी दिन से पढ़ाई में मन लगाने की योजना बनाने लगता। परंतु पुस्तक उठाने के पहले ही उसे कुछ और सूझ जाता और वह उस काम में जुट जाता।

यूं तो वह पढ़ाई में बुद्धू लड़का था, परंतु उसका दिमाग बहुत तेज था। वह सारी बातों को जल्दी ही समझ जाता था। फन्टूश अकसर शाम को अपने पिता के पास दुकान पर चला जाया करता था। वहां पिता के काम में हाथ बंटाया करता था, जिससे पिता को यह तसल्ली होती थी कि चलो मेरा बेटा यदि पढ़-लिख नहीं सकता तो भी मेरी अनाज की दुकान और चक्की तो ठीक प्रकार संभाल ही लेगा।

फन्टूश पन्द्रह का हो चला था। वह देखने में पतला-दुबला था, इस कारण सभी लोग उसे बच्चा ही समझते थे। फन्टूश की इच्छा होती थी कि लोग उससे इज्जत से बात करें। बड़ों की भांति उससे व्यवहार करें।

एक बार गांव में दंगल हुआ तो फन्टूश ने निश्चय किया वह भी अखाडे़ में उतरेगा। यदि किस्मत से वह जीत गया तो लोग उसकी ताकत से डरने लगेंगे और उसे फन्टूश पहलवान कह कर पुकारा करेंगे। फन्टूश मन ही मन कल्पना कर रहा था कि जब लोग उसे फन्टूश पहलवान या फन्टूश जी कहेंगे तो उसे कैसा वर्ग महसूस होगा। उसके पिता पहलवान के पिता कहलाएंगे।

फन्टूश रोज जमकर वर्जिश और व्यायाम करने लगा। वह खूब दूध-बादाम खाता ताकि कुश्ती में जीत सके। परंतु उसने अपने माता-पिता को अखाड़े में भाग लेने के बारे में नहीं बताया। धीरे-धीरे कुश्ती का दिन आ पहुंचा। फन्टूश लंगोट बांधकर शरीर में तेल मालिश कर अखाड़े में पहुंच गया परंतु उसे अखाड़े का अनुभव नहीं था, इस कारण उसे जल्दी ही चारों खाने चित होना पड़ा।

कुश्ती में फन्टूश की पैर की हड्उी खिसक गई तो चार लोग उसे घर पहुंचा आए। फन्टूश का हाल देखकर उसके मां-बाप बहुत दुखी हुए, साथ ही फन्टूश को अखाड़े में भाग लेने के कारण अच्छी फटकार लगाई।

समय बीतता गया और फन्टूश स्वस्थ हो गया। अब वह पढ़ाई खत्म करके पिता की दुकान पर बैठने लगा। वह रोज सुबह तैयार होकर पिता के साथ दुकान पर चला जाता।

एक दिन फन्टूश के मौसा पड़ोस के गांव से आए तो कुछ दिन के लिए उसे अपने साथ ले गए। उसका वहां खूब मन लग रहा था कि वह एक दिन मौसा के साथ बाजार गया। बाजार में उसने एक पहलवान की दुकान देखी, जहां लिखा था नत्थू पहलवान की दुकान। उस दुकान में एक मूंछो वाला रोबीला आदमी बैठा था, जिसके चारों तरफ 3-4 लोग उसके हाथ-पांव दबा रहे थे। फन्टूश को इस बारे में जानने की बहुत उत्सकुता हुई, वह बोला-”मौसा, यह नत्थू पहलवान क्या करता है?“

मौसा ने चलते-चलते बताया -”यह यहां का मशहूर पहलवान है, लोग इसके नाम से डरते हैं। यह सात लोगों को मार चुका है। इस कारण लोग इसे सात मार खां भी कहते हैं।“

मौसा की बात सुनकर फन्टूश बहुत अधिक प्रभावित हुआ। उसका खोया हुआ ख्वाब फिर से जाग उठा। वह भी पहलवान बनने का सपना देखने लगा।

एक दिन दोपहर को फन्टूश मौसा के घर खाली बैठा था और भोजन का इंतजार कर रहा था। तभी उसने देखा कि मेज पर कुछ मंक्खिया भिनभिना रही हैं। फन्टूश ने हाथ को जोर से घुमाकर मारा तो दो-तीन मक्खियां मर गईं। तभी मौसी उस कमरे में आ गई, वह बोली-”क्या कर रहे हो, फन्टूश? मैं भोजन लाती हूं।“

फन्टूश बोला-”खाली बैठे क्या करूंगा? दो-दो को मार चुका हूं।“

मौसी हंसते हुए मजाक के लहजे में बोली-”अच्छज्ञ दो का खून कर चुके और क्या इरादा है?“

कुछ नहीं मौसी जब तक भोजन नहीं आता, तब तक मक्खियां मारने के सिवा काम ही क्या है।“

बात-बात में मौसी भोजन लेकर आ गई। शाम को मौसा के सामने मजाक होने लगा कि आज तो फन्टूश ने सात का खून कर दिया।

फन्टूश ने अगले दिन किसी के सामने बातों-बातों में जोर से कहा-”जानते नहीं, मैं सात को मार चुका हूं। अब आठवें तुम तो नहीं।“

वह आदमी डर गया, परंतु हिम्मत दिखाते हुए बोला-”भैया, सात मार खां तो हमारे गांव में भी है। आठ मार खां होते तो बात कुछ और होती।“

फन्टूश ने मन ही मन निश्चय किया वह आठ मार खां बन कर रहेगा।

अब वह मौसी के घर बैठा-बैठा मक्खियों को ढूंढ-ढूंढकर मारा करता। एक दिन मौसा ने उसे बताया कि वह उसके गांव में जा रहे हैं, फन्टूश तुरंत अपने घर जाने के लिए तैयार होकर आ गया। इतने दिन खाली बैठकर फन्टूश थोड़ा तगड़ा हो चुका था। फन्टूश और मौसा चल दिए।

रास्ते में मजाक में मौसा से पूछा-”क्यों बेटा, यहां खाली बैठकर कितनी मारीं?“

फन्टूश हंसकर बोला-”मौसा तीस को मार खां बन गया हूं। पूरे तीस का खून कर चुका हूं।“

फन्टूश अपने घर पहुंचकर बहुत खुश था। रात्रि भोज के समय फन्टूश के पिता, मां व मौसा सभी बैठे थे। तभी मौसा फन्टूश के पिता से गंभीर मुद्रा में बोले-”भाई साहब जानते हैं, वहां फन्टूश ने तीस का खून कर दिया?“

सभी लोग अत्यंत आश्चर्य और कौतूहल भरी निगाहों से मौसा की ओर देखने लगे। मौसा बोले-”आप लोगों को यकीन न हो तो फन्टूश से पूछ लीजिए।“

फन्टूश के पिता घबराते हुए बोले-”बेटा, मौसा क्या कह रहे हैं?“

फन्टूश ने सिर झुका कर उत्तर दिया-”जी पिता जी, मैं तीस का खून करनके तीसमार खां बन गया हूं।“

फन्टूश के माता-पिता एकदम घबराने लगे कि अब क्या होगा? तभी मौसा ने असली बात बता दी और सबने चैन की सांय ली। धीरे-धीरे पूरे गांव में चर्चा होने लगी कि फन्टूश तीसमार खां बन कर लौटा है। लोग फन्टूश की बेहतर सेहत देखकर यकीन करने लगे और फन्टूश के नाम से डरने लगे। कोई यह पूछने का साहस ही न करता कि फन्टूश ने किसको मारा है।

फन्टूश ने एक बड़ी दुकान खाली, जिस पर बोर्ड लगाया-”तीसमार खां फन्टूश पहलवान की दुकान।“ बोर्ड पढ़कर दूर-दूर से लोग फन्टूश के पास आने लगे। अब फन्टूश को कहीं जाना न पड़ता। लोग फन्टूश को उसके हिस्से की बड़ी रकम पेशगी दे जाते और दूसरी जगह जाकर फन्टूश पहलवान का नाम ले लते। बस उनका काम आसानी से हो जाता।

आस-पास के गांवोे में चर्चा करते कि पांच-सात को मारने वाले तो बहुत सुने थे, पर तीसमार खां पहली बार सुना है। उस गांव के लोग गर्व से सिर उठा कर कहते-”भाई, हम तीसमार खां के गांव के रहने वाले हैं, हमसे पंगा मत लेना।“

अब फन्टूश को कहीं बहादुरी दिखाने की या पहलवानी दिखाने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती थी। बड़े-बड़े पहलवान उसका सलाम करने आते थे। फन्टूश तीसमार खां बनकर मजे से रहने लगा।

एक बार की बात है। फन्टूश के मोहल्ले में बड़े सर्राफ के यहां डकैतों ने हमला बोल दिया। डाकू सारा सोना-चाँदी और जेवरात बांध ही रहे थे कि किसी ने फन्टूश को खबर दी-”पहलवान जी जल्दी चलो, सर्राफ के यहां से डाकू सब कुछ लूट कर लिये जा रहे हैं। उन्होंने चुपके से मुझे आपको बुलाने भेजा है।“

फन्टूशप हलवान की भीतर ही भीतर घिग्घी बंध गई। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे? उसने तो आज तक बंदूक-पिस्तौल नहीं उठाई थी। किसी को गोली मारना तो दूर थप्पड़ भी नहीं मारा था। परंतु यदि वह मना करता तो उसकी बहुत बदनामी होती। यह सोचकर फन्टूश पहलवान हाथ में डंडा ले, लूंगी बांध कर सर्राफ के घर की तरफ चल दिया।

सर्राफ के घर के बाहर जाकर पहलवाने जी भीतर से हिम्मत जुटाकर जोर से बोले-”मैं आ गया हूं तीसमार खां। भीतर कैन है? आकर पहले मुझसे मुकाबला करो।“

डाकुओं ने तीसमार खां का नाम सुन रखा था। वे घबरा गए, जल्दी से सारी बांधी हुई पोटली छोड़कर गलियों से होकर भाग निकले।

डाकू खुश थे कि आज उनकी जान बच गई। सर्राफ ने बाहर आकर तीसमार खां के पैर कपड़ लिए और उसके आगे ढेर सारे जवाहरात रख कर बोला-”पहलवान जी, यह छोटी सी भेंट है। इसके लिए मना मत कीजिएगा।“

तीसमार खां ने भेंट उठाई और चुपचाप चल दिया। वह मन ही मन खुश हो रहा था कि आज की दुनिया काम को नहीं नाम को पूजती है। उसके लिए उसका नाम ही ख्याति दिलाने को काफी था।

कहते हैं तभी से कहावत बन गई ‘तीसमार खां’ यानी झूठमूठ का बहादुर। लोग बात-बात में कहते हैं-”क्या तुम अपने आपको बहुत बड़ा तीसमार खां समझते हो?“

Leave a comment

मुसीबत से छुटकारा (Maryashka and Ianyanov)

एक गांव में दो दोस्त रहते थे। एक का नाम था मार्युश्का और दूसरे का इल्यानोव। दोनों एक दूसरे पर जान छिड़कते थे।

जब वे बड़े हुए तो इल्यानोव बड़ा व्यापारी बनकर बहुत अमीर हो गयां वह शहर चला गया जबकि मार्युश्का गांव में रहकर खेती करने लगा। वह इतना गरीब था कि मुश्किल से दो वक्त को रोटी जुटा पाता थां मार्युश्का सुबह से शाम तक खेतों पर काम करता परंतु कुछ न कुछ ऐसा हो जाता कि फसल बेचते वक्त उसे नुकसान हो जाता।

एक दिन मार्युश्का की पत्नी बोली-”तुम अपने मित्र इल्यानोव के पास क्यों नहीं चले जाते, वह तुम्हारा पुराना मित्र है, अवश्य कुछ सहायता करेगा या कहीं काम दिलवा देगा।“

मार्युश्का को मित्र के पास काम मांगने के लिए जाने में शर्म आती थी, परंतु पत्नी के आग्रह करने पर वह शहर चला गया।

इल्यानोब के शानदार मकान के बाहर चैकीदार तैनात था। मार्युश्का ने भीतर खबर भिजवाई। कुछ देर इंतजार के बाद मित्र ने मार्युश्का को भीतर बुलवाया और ठीक से बात की। थोड़ी देर बाद जब मार्युश्का ने अपने आने का आशय बताया तो इल्यानोव घमंड और रुखाई से बोला-”तुम चाहो तो यहां काम कर सकते हो।“

मार्युश्का राजी हो गया और दिन भर काम करने लगा। वह सुबह से शाम तक मजदूरों की तरह लगा रहता। शाम को उसे खाना और थोड़ा-सा धन मिल जाता।

इतना धन तो वह गांव में भी कमाता था, जिससे उसका गुजारा नहीं चल पाता था।

वह दो दिन में ही परेशान हो गया और गांव की ओर वापस चल दिया। थोड़ी दूर पर उसे एक स्त्री मिली जो जल्दी ही उसकी मित्र बन गई। वह बोली-”चलो, आज मेेरे साथ चलो।“

मार्युश्का ने उस स्त्री से उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम ‘मुसीबत’ बताया। मार्युश्का उसके साथ चल दिया। वह आगे-आगे चलती गई और जुआघर ले गई। वहां बैठकर वह जुआ खेलने लगा। कुछ ही देर में वह सारा पैसा हार गया और उठकर वापस आ गया।

वह फिर गांव की ओर चल दिया। रास्ते में फिर वही स्त्री मिली और प्यार से उसे वापस ले गई। स्त्री मार्युश्का को लेकर शराबखाने चली गई। वहां वह शराब पीता रहा। उसके पास पैसे न थे, इस कारण उसने बैल गिरवी रख दिए।

मुसीबत मार्युश्का के पीछे खड़ी रही। धीरे-धीरे उसके हल, खेत सब बिक गए। वह कंगाल हो गया। फिर मुसीबत उसके पास आई और साथ चलने की जिद करने लगी। मार्युश्का ने कहा-”अब मेरे पास बचा ही क्या है?“

मार्युश्का न चाहते हुए भी मुसीबत के साथ चल दिया। रास्ते में एक बड़ा पत्थर पड़ा था, उसके पास ही एक बड़ा गड्डा था। मार्युश्का की गाड़ी पत्थर से टकरा गई तो मुसीबत लुढ़ककर गड्डे में गिर गई।

मार्युश्का मुसीबत को गड्डे से निकालने गया तो उसकी आंखे फटी की फटी रह गई, क्योंकि वहां सोना, चांदी, हीरे भरे पड़े थे। मार्युश्का ने ढेर-सा खजाना अपने साथ बांध लिया, फिर स्त्री से बोला-जरा सहारा दो, मैं पहले ऊपर पहुंचता हूं।“ मुसीबत ने सोचा कि मार्युश्का ऊपर पहुंचकर उसे भी ऊपर खींच लेगा। अतः मार्युश्का को ऊपर चढ़ा दिया।

मार्युश्का ने धन की पोटली एक तरफ रखकर जल्दी से पत्थर को गड्डे के ऊपर गिरा दिया। गड्डा ढक गया और मुसीबत वहां बंद हो गई। मार्युश्का सारा धन लेकर गांव पहुंचा और अपनी पत्नी व बच्चों के साथ आराम से रहने लगा। उसने वहीं एक सुंदर मकान बनवा लिया।

कुछ दिन बाद मार्युश्का का जन्मदिन आया तो उसने अपने मित्र इल्यानोव को भी आमंत्रित किया। इल्यानोव घमंड से बोला-”क्या बेवकूफ हो गए हो? जानते हो जन्मदिन की पार्टी पर इतना खर्च आता है? यह तो सिर्फ अमीर मना सकते है, तुम जैसे गरीब नहीं।“

मार्युश्का ने जिद की तो इत्यानोव आने को राजी हो गया। इत्यानोव गांव पहुंचकर दंग रह गया। मार्युश्का का मकान इतना बड़ा और सुंदर था, जितनी उसने कल्पना भी न की थी। मकान एक महल जैसा प्रतीत होता था। वह रोशनियों से जगमगा रहा था।

बहुत बड़ी दावत हुई, जिसमें बड़े-बड़े रईस आए थे। इल्यानोव ने चुपके से इस धन-दौलत व आराम का रहस्य मार्युश्का से पूछा तो उसने सब कुछ बता दिया। साथ ही यह भी बता दिया कि उसने मुसीबत को कहां व किस गड्डे में बंद किया है।

इल्यानोब वहां से चलकर सीधा वहीं पहुंचा, जहां मुसीबत गड्डे में बंद थी। इल्यानोव ने सोचा कि पत्थर हटाकर मैं भी धन-दौलत बाहर ले आऊंगा और जल्दी से पत्थर हटाकर भीतर घुसने लगा। ज्यों ही उसने पत्थर हटाया, मुसीबत जल्दी से बाहर आ गई।

इत्यानोव जब तक कुछ सोचता, मुसीबत ने उसका हाथ पकड़ लिया और अपने साथ लेकर चल दी। कुछ ही दिन में इल्यानोव का सब कुछ बिक गया और वह गरीब हो गया। अब वह कुछ नहीं कर सकता था, क्योंकि उसके पास सब कुछ होते हुए भी उसने धन का लालच किया था। साथ ही घमंड के कारण अपने मित्र से भी दुव्र्यवहार किया था।

Leave a comment

ढोलक का राज (Barber gets punished)

A barber goes to cut hair of his King and sees his donkey-sized ears. Despite being asked to remain tight-lipped and not tell anyone about this he does and ends up getting punishment.

Moral of the Story: Excessive talking can be dangerous

Full Story in Hindi

एक गांव में एक नाई रहता था। उसका काम था लोगों की हजामत बनाना। उसकी एक बुरी आदत थी कि उसके पेट में कोई बात पचती नहीं थी। अतः इधर की बातें उधर बताने का उसे शौक था।

hindi short story for kids with moralएक बार राजा का शाही नाई बीमार पड़ गया तो राजा ने उस नाई को बुलवा भेजा। राजमहल जाकर नाई राजा के बाल काटने लगा तो उसने देखा के राजा के कान गधे जैसे हैं, जो कि पगड़ी व राजमुकुट के कारण दिखाई नहीं देते थे।

नाई हजामत करके जाने लगा जो राजा ने नाई को पैसे देकर कहा-”यहां जो कुछ तुमने देखा है, वह किसी को नहीं बताओगे। मेने कानों का राज तुमने जान लिया है। यह राज तुमने किसी को भी बताया तो तुम्हें पकड़वाकर तुम्हारी जीभ काट दी जाएगी और कोड़ों की सजा भी मिलेगी। लो, राज को राज रखने के लिए यह मोती की माला इनाम में ले जाओ।“

नाई ने निश्चय किया कि राजा के कानों के बारे में किसी को नहीं बताएगा वरना उसे सजा मिलेगी।

नाई घर पहुंचा तो बार-बार उसका मन करता कि वह राजा के कानों के बारे में अपनी पत्नी को बता दे। परंतु जीभ कटने के डर से उसने पत्नी को नहीं बताया और रात भर करवटें बदलता रहा।

एक-दो बार पत्नी ने भी पूछा कि क्यों बेचैन हो रहे हो, फिर भी वह चुप रहा। अगले दिन वह दुकान पर गया तो उसका मित्र हजामत बनवाने आया।

नाई ने सोचा कि मित्र को बताने में क्या हर्ज है। फिर याद आया कि राजा उसकी जीभ कटवा देंगे और कोड़ों से पिटवाएंगे। अतः कुछ न बोला। नाई का मन बेचैन हुआ जा रहा था। वह अपनी बात किसी को बताना चाहता था।

नाई अपनी बेचैनी कम करने के लिए अपने रिश्तेदार के यहां गया ताकि राजा के कानों के बारे में बता सके। परंतु वहां जाकर भी डर के मारे हिम्मत नहीं हुई।

नाई बहुत बेचैन हो गया। उसके पेट में दर्द होने लगा। वह हर समय यही सोचता रहता कि राजा के कानों के बारे में किसे बताए। धीरे-धीरे उसका पेट दर्द बढ़ने लगा तो वह और भी परेशान हो उठा। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करे, क्या न करे?

घबराहट में नाई जंगल की ओर भागा। उसने सोचा कि जंगल में पेड़-पौधे तो बेजुबान होते हैं, क्यों ने उन्हें ही बता दिया जाए। कुछ सोच-विचार के बाद वह एक पेड़ के पास गया और जाकर धीरे से बोला-”राजा के गधे के कान, राजा के गधे के कान।“

अचानक नाई का पेट दर्द ठीक हो गया और वह घर वापस आ गया। उसी दिन जंगल में एक लकड़हारा लकड़ी काटने गया तो एक बड़ा वृक्ष देखकर उसकी लकड़ी काटने लगा।

संयोगवश यह वही वृक्ष था, जिसे नाई ने अपना राज सुनाया था। उस पेड़ को काटकर उसकी ढोलक बनाई गई। ढोलक एक घर में विवाह के अवसर पर बताई गई तो ठीक से बजने के स्थान पर खास आवाज निकल रही थी। लोगों ने सुना ढोलक बार-बार कह रही थी-”राजा के गधे के कान, ”राजा के गधे के कान।“

पहले तो लोगों को यकीन नहीं हुआ, परंतु बार-बार ढोलक यही कहती रही।

पूरे गांव में खबर फैल गई ‘ ”राजा के गधे के कान’। लोग ढोलक का गाना सुनने के लिए उसे किराए पर लेने आते और खूब मजा लेकर सुनते। अब पूरे गांव में राजा के कानों की चर्चा थी।

धीरे-धीरे खबर राजा तक पहुंची। राजा जानता था कि इस नाई के अलावा यह काम किसी का नहीं हो सकता। फिर उसने नाई को बुलवा भेजा। नाई डरता-डरता आया। राजा ने कहा-”तुमने हमारी आज्ञा का उल्लंघन किया है, तुम्हें सजा अवश्य मिलेगी। तुम्हारी जीभ काट दी जाएगी।“

नाई राजा के पैरों में पड़कर गिड़गिड़ाने लगा, ”मेरी जीभ मत कटवाइए। मैंने तो सिर्फ पेड़ से कहा था।“

राजा का दिल पिघल गया और आज्ञा दी कि इसकी जीभ न काटी जाए, परंतु सजा के तौर पर इसे कोड़े जरूर मारे जाएं ताकि यह इधर की बात उधर करने की आदत को सुधार सके।

नाई पर जमकर कोड़े बरसाए गए और उसने कसम खाई कि वह कभी भी इधर की बात उधर नहीं करेगा।

Leave a comment

कौन बड़ मूर्ख (Ivan searches biggest fool in the World)

In this Russian flok tale, Ivan searches for biggest fool in the word and end up finding too many.

Complete Story in Hindi

एक बूढ़ी और के दो बेटे थे। उनका नाम इवान और तात्या था। वह दोनों को बहुत प्यार करती थी। एक बार एक दुर्घटना में बुढि़या का बेटा तात्या मारा गया।

hindi short story for kids with moraतात्या की मौत से बुढि़या बहुत दुखी थी। एक दिन इवान को किसी काम के सिलसिले में गांव से बाहर जाना पड़ा, तभी एक सिपाही बुढि़या के पास आया। बुढि़या ने उससे पूछा-”भैया, तुम कहां से आए हो?“

‘‘मां, मैं दूसरी धरती का रहने वाला हूँ।’’ सिपाही बोला।

‘‘अच्छा तो तुमने मेरे बेटे तात्या को भी देखा होगा ? कैसा है मेरा बेटा तात्या।’’

‘‘तात्या को मैंने कई बार देखा है। परंतु वह बहुत परेशान है।’’

‘‘क्यों ?’’ बुढि़या घबराते हुए बोली।

‘‘माँ, तात्या को बिल्ली की पीठ पर बैठकर 50 मील दूर जाना पड़ता है। फिर घोड़ों को सूखी झाडि़यां खिलानी पड़ती है।’’ सिपाही बोला।

‘‘अच्छा, फिर तो मेरे बेटे को बहुत मेहनत करनी पड़ती होगी। वह घोड़े को सूखी झाडि़यां कैसे खिलाता होगा, यहां तो ऊंट झाडि़यां खाते है।’’

बुढि़या कहकर भीतर चली गई। उसके पास 100 रूबल और 10 मीटर कपड़ा व नए जूते रखे थे। उन्हें उठाकर सिपाही को दे दिया और बोली- ‘‘इन चीजों को मेरे बेटे को दे देना। वह बेचारा परेशान होगा।’’

सिपाही सामान लेकर खुशी-खुशी चला गया। कुछ समय बाद इवान वापस आया तो मां ने सारी बात इवान को बताई। इवान सुनकर क्रोधित हो उठा कि क्या बेवकूफी करती हो ? वह सिपाही तुम्हंे ठग कर ले गया है। मुझे लगता है कि दुनिया में कोई तुमसे बड़ा मूर्ख नहीं होगा। मैं घर से बाहर जा रहा हूँ और तभी लौटूंगा जब इससे भी बड़ा मूर्ख ढंूढ़ लूंगा।

इवान घर से काफी दूर निकल गया। उसने देखा कि एक घर के बाहर बड़े तगड़े मुर्गे-मुर्गियां खेल रहे हैं। उसने झुककर एक मुर्गी को प्यार किया और दंडवत प्रणाम किया। उस घर की मालिकिन खिड़की से यह सब देख रही थी। उसने इवान को भीतर बुलवाकर पूछा- ‘‘यह क्या कर हरे थे ?’’

इवान ने उस स्त्री का अभिवादन कर कहा – ‘‘यह मुर्गी मेरी मुर्गी की बड़ी बहन है। कल मेरी मुर्गी की शादी है, अतः आपकी मुर्गी को सपरिवार दावत देने आया हूँ, आपको कोई एतराज तो नहीं।’’

स्त्री मन ही मन इवान की बेवकूफी पर हंसने लगी और बोली – ‘‘मेरी मुर्गी अपने परिवार सहित विवाह में जरूर जाएगी। पर उन्हें दाना जरा जमकर खिलाना और हां विवाह की मिठाई भी इनके साथ खूब सारी भेजना।’’

‘‘क्यों नहीं, जल्दी ही मिठाई लेकर मुर्गी आएगी।’’ इवान ने कहा। स्त्री ने एक बैलगाड़ी में बिठाकर मुर्गे-मुर्गे व चूजे इवान को सौंप दिए और बैलगाड़ी में खाली टोकरी रखवा दी। वह मन ही मन खुश होने लगी कि दो-चार दिन मुर्गी को दाना इवान खिलाएगा, फिर मुर्गी मिठाई की टोकरी लेकर वापस लौटेगी। इवान सब कुछ लेकर चला गया।

स्त्री का पति वापस आया तो पत्नी ने हंसकर सारा किस्सा बयान कर दिया- ‘‘कैसा बेवकूफ आदमी था, मुर्गी से रिश्तेदारी लेकर आया था।’’

‘‘बेवकूफ तो मुम हो।’’ क्रोधित होेते हुए पति बोला-‘‘वह तुम्हें ठग कर ले गया और तुमने खुशी से सब कुछ उसके हवाले कर दिया, यहां तक कि बैलगाड़ी भी जाने के लिए दे दी।’’

पत्नी पछताने लगी और बोली-‘‘वह आदमी अभी एक घंटा पहले ही गया है, ज्यादा दूर नहीं गया होगा, कृपया कुछ कीजिए। नौकर को भेजकर पकड़वा लीजिए।’’

पति को और कुछ न सूझा। अपना घोड़ा और बंदूक लेकर उसी दिशा में चल दिया जिधर वह व्यक्ति गया था।

इवान काफी दूर जंगल में पहुंच चुका था। अचानक घोड़े की आवाज सुनकर उसे लगा कि हो सकता है कि मुर्गी-बैलगाड़ी का मालिक उसे ढूंढ़ने आ रहा हो। उसने जल्दी से बैलगाड़ी झाडि़यों की आड़ में छिपा दी।

बैलगाड़ी से टोकरी निकालकर थोड़ी दूर ले जाकर उसे उल्टा करके उस पर अपनी कमीज ढक दी। फिर टोकरी के सामने बैठकर घोड़े पर आने वाले का इंतजार करने लगा। कुछ ही क्षणों में वह व्यक्ति आ पहंुचा।

उसने पूछा-‘‘क्या तुमने इधर से किसी आदमी को मुर्गी, मुर्गे व चूजे को बैलगाड़ी पर ले जाते देखा है।’’

‘‘हां, श्रीमान देखा है, परन्तु अब तो वह काफी दूर निकल चुका होगा।’’ इवान ने कहा।

‘‘ठीक है, मैं उसे पकड़ने जाता हूँ।’’ स्त्री का पति बोला।

‘‘लेकिन जंगल के टेढ़े-मेढ़े रास्ते आपको मालूम हैं न ?’’ इवान ने पूछा।

‘‘नहीं, रास्ते तो नहीं मालूम। जाओ भाई, तुम उसे पकड़ लाओ, मैं तुम्हें इनाम में दो सौ रूबल दूंगा।’’ पति बोला।

‘‘लेकिन मैं नहीं जा सकता। मैं बोलने वाले तोतों का जोड़ा खरीदकर लाया हूँ, जो बहुत महंगा है। यह जोड़ा लोगों का भविष्य बताता है। यदि टोकरे के नीचे से एक भी तोता निकल गया तो मैं कहीं का न रहूंगा।’’ इवान ने मासूमियत से कहा।

‘‘अरे भाई, तोता उड़ गया तो उसकी कीमत ले लेना।’’

‘‘तीन-तीन सौ रूबल के दो तोते खरीदे हैं। मुझे क्या पता कि बाद में तुम मुझे रूबल दोगे या नहीं।’’

उस व्यक्ति ने उसे यकीन दिलाने के लिए छः सौ रूबल दिए, फिर कहा- ‘‘अब तो जाओ और उस व्यक्ति को पकड़कर लाओ।’’

‘‘लेकिन मैं जाऊँगा कैसे ?’’ इवान ने पूछा

‘‘मैं तब तक तुम्हारे तोतों की रखवाली करता हूँ, तुम मेरा घोड़ा ले जाओ और उस आदमी को पकड़कर लाओ। हो सकता है वह आसानी से न माने, मेरी बंदूक भी ले जाओ।’’ पति ने कहा।

इवान ने रूबल, घोड़ा और बंदूक ली और नौ दो ग्याहर हो गया। वह व्यक्ति शाम तक इवान के वापस आने का इंतजार करता रहा, फिर टोकरा उठाकर देखा तो टोकरा खाली देख रो पड़ा।

इवान अपने घर वापस पहुंचा और मां से बोला- ‘‘इस दुनिया में बहुत बड़े-बड़े मूर्ख हैं।’’ और सारा किस्सा सुनकर हंसने लगा। फिर अगले दिन बैलगाड़ी और मुर्गी भी जंगल से ले आया।

Leave a comment

मेहनत का फल (Hard working William marries Princess)

Its a story of 2 brothers William and John. William was hard working while John was lazy. The rest of the story folows how hard working William marries princess and lives a lavish life.

Moral of the Story: Hard work always pays.

Complete Story in Hindi

राजकुमारी रोजी की खूबसूरती की हर जगह चर्चा थी। सुनहरी आंखें, तीखे नयन-नक्श, दूध-सी गोरी काया, कमर तक लहराते बाल सभी सुदंरता में चार चंाद लगाते थे।

एक बार की बात है। राजकुमारी रोजी को अचानक खड़े-खड़े चक्कर आ गया और वह बेहोश होकर गिर पड़ी।

hindi short story for children with moralराजवैद्य ने हर प्रकार से रोजी का इलाज किया, पर राजकुमारी रोजी को होश नहीं आ रहा था। राजा अपनी इकलौती बेटी को बहुत चाते थे।

उस देश के रजउ नामक ग्राम में विलियम और जाॅन नाम के दो भाई रहा करते थे।

विलियम बहुत मेहनती और चुस्त था और जाॅन अव्वल दर्जे का आलसी था। सारा दिन खाली पड़ा बांसुरी बजाया करता था। विलियम पिता के साथ सुबह खेत पर जाता, हल जोतता व अन्य कामों में हाथ बंटाता।

एक दिन विलियम ने जंगल में तोतों को आदमी की भाषा में बात करते सुना। एक तोता बोला-”यहां के राजा की बेटी अपना होश खो बैठी है, क्या कोई इलाज है?“

”क्यों नहीं, वह जो उत्तर दिशा में पहाड़ी पर सुनहरे फलों वाला पेड़ है वहां से यदि कोई फल तोड़कर उसका रस राजकुमारी को पिलाए तो राजकुमारी ठीक हो सकती है।“ तोते ने कहा, ”पर ढालू पहाड़ी से ऊपर जाना तो बहुत कठिन काम है, उससे फिसलकर तो कोई बच नहीं सकता।“

विलियम ने घर आकर सारी बात बताई तो जाॅन जिद करने लगा कि वह फल मैं लाऊंगा और राजा से हीरे-जवाहरात लेकर आराम की बंसी बजाऊंगा। फिर जाॅन अपने घर से चल दिया। मां ने रास्ते के लिए जाॅन को खाना व पानी दे दिया।

जाॅन अपनी बांसुरी बजाता हुआ पड़ाही की ओर चल दिया। पहाड़ी की तलहटी में उसे एक बुढि़या मिली, वह बोली-”मैं बहुत भूखी हूं। कुछ खाने को दे दो।“

जाॅन बोला-”हट बुढि़या, मैं जरूरी काम से जा रहा हूं। खाना तुझे दे दूंगा तो मैं क्या खाऊंगा?“ और जाॅन आगे चल दिया।

पर पहाड़ी के ढलान पर पहुंचते ही जाॅन का पांव फिसल गया और वह गिरकर मर गया।

कई दिन इंतजार करने के पश्चात विलियम घर से चला। उसके लिए भी मां ने खाना व पानी दिया। उसे भी वही बुढि़या मिली। बुढि़या के भोजन मांगने पर विलियम ने आधा खाना बुढि़या को दे दिया और स्वयं आगे बढ़ गया।

विलियम जब ढलान पर पहुंचा तो उसका पांव भी थोड़ा-थोड़ा फिसल रहा था, वह घास पकड़े-पकड़ कर चढ़ रहा था। पर उसे तभी वहां दो तोते दिखाई दिए और उनमें एक-एक तड़पकर उसके आगे गिर गया।

विलियम को चढ़ते-चढ़ते प्यास भी लग रही थी और उसके पास थोड़ा ही पानी बचा था, फिर भी उसने तोते की चोंच में पानी डाल दिया।

चोंच पर पानी पड़ते ही तोता उड़ गया और न जाने तभी विलियम का पैस फिसलना रुक गया। विलियम तेजी से ऊपर पहुंचा और सुनहरे पेड़ तक पहुंच गया।

उसने एक पेड़ से एक फल तोड़ लिया। फल को तोड़ते ही उसमें जादुई शक्ति आ गई। उसने आंख मूंद ली और जब आंखे बोली तो स्वयं को पहाड़ी के नीचे पाया और उसके सामने वही बुढि़या खड़ी मुस्करा रही थी।

वह फल लेकर राजा के महल में पहुंचा और राजा की आज्ञा लेकर उसने फल का रस निकाल कर राजकुमारी के मुंह में डाल दिया।

उस मुंह में पड़ते ही राजकुमारी ने आंखे खोल दी। राजकुमारी बोली-”हे राजकुमार, तुम कौन हो?“

विलियम बोला-”मैं कोई राजकुमार नहीं, एक गरीब किसान हूं।“ इतने में राजा व उसके सिपाही आ गए। राजा बोले-”आज से तुम राजकुमार ही हो वत्स। तुमने रोजी को नई जिन्दगी दी है। बताओ, तुम्हें क्या इनाम दिया जाए?“

विलियम बोला-”मुझे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए, मेरे पास बहुत थोड़ी जमीन है। यदि आप मुझे पांच एकड़ जमीन दिलवा दें तो मैं ज्यादा खेती करके आराम से रह सकूंगा।“

राजा बोला-”सचमुच तुम मेहनती और ईमानदार हो। तभी तुमने इतना छोटा इनाम मांगा है। हम तुम्हारा विवाह अपनी बेटी रोजी से करके तुम्हारा राजतिलक करना चाहते हैं।“

विलियम बोला-”पहले मैं अपने माता-पिता की आज्ञा लेना अपना फर्ज समझता हूं।“

राजा विलियम की मातृ-पितृ भक्ति देखकर गद्गद हो उठा और बोला-”उनसे हम स्वयं ही विवाह की आज्ञा प्राप्त करेंगे। सचमुच तुम्हारे माता-पिता धन्य हैं जो उन्होंने तुम जैसा मेहनती व होनहार पुत्र पाया है।“

फिर राजा ने विलियम के पिता की आज्ञा से विलियम व रोजी का विवाह कर दिया और उसके पिता को रहने के लिए बड़ा मकान, खेती के लिए जमीन व काफी धन दिया।

विलियम राजकुमारी के साथ महल में तथा उसके माता-पिता अपने बड़े वैभवशाली मकान में सुखपूर्वक रहने लगे।

Leave a comment

राजकुमारी की बीमारी (Princess comes out of illness hearing flute)

मोहनपुर नामक गांव में एक राजा माधो सिंह राज्य करता था। उसकी एक ही बेटी थी। राजा अपनी बेटी मोहिनी को बहुत प्यार करता था।

एक बार मोहिनी बीमार पड़ गई। राजवैद्य दवा देते-देते परेशान हो गए पर मोहिनी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हो रहा था। मोहिनी इतनी कमजोरी हो गई थी कि न कुछ खाती-पीती, न ही बोलती थी। उसके चेहरे से हंसी जैसे गायब को गई थी।

राजा ने घोषणा की कि जो भी मेरी बेटी को ठीक करेगा, उसे मुहंमांगा इनाम दिया जाएगा। सभी डाॅक्टर व वैद्यों ने प्रयत्न किया पर मोहिनी की दशा में कोई अन्तर न हुआ।

एक दिन अचानक राजमहल में बांसुरी की धीमी-धीमी आवाज सुनाई दी। उस समय मोहिनी सो रही थी। धीरे-धीरे बांसुरी की आवाज तेज होती गई। बांसुरी की मीठी तान से मोहिनी की आंख खुल गई। वह बोली-”यह बांसुरी कौन बजा रहा है?“

मोहिनी की आवाज इतने दिन बाद सुनकर सबने कहा हम बांसुरी बजाने वाले को यहां बुलाते हैं। मोहिनी जिद करके उठ गई कि नहीं इतनी सुंदर बांसुरी बजाने वाले की बांसुरी बजाने में बाधा मत डालो और वह वहीं पहुंच गई जहां चन्दू बैठा बांसुरी बजा रहा था। चंदू बासुरी की धुन में इतना खोया था कि उसे किसी के आने की आहट भी न हुई। उसकी बांसुरी की सुंदर धुन सुनने हिरण, मोर आदि अनेक जानवर इकट्ठे हो गए थे।

मोहिनी के पीछे-पीछे राजा के सैनिक व घुड़सवार भी आ गए। उनका पदचाप व घोड़ों की आवाज से चंदू का ध्यान बंट गया। राजो के सैनिक उसे राजमहल में ले जाने लगे तो वह इन्कार करने लगा और सोचने लगा कि शायद उसने कोई भयंकर अपराध हो गया है।

राजमहल में हाने पर राजा बोले-”हम तुमसे बहुत प्रसन्न हैं। तुमने हमारी बेटी को ठीक कर दिया है। इनाम में क्या चाहते हो?“

चंदू बोला-”मैं गरीब अनाथ बालक हूं। यदि मुझे कुछ काम मिल जाए तो मैं स्कूल भी जा सकूंगा। मुझे पढ़ने का बहुत शौक है।“

राजा ने उसे राजमहल में ही रख लिया और उसकी शिक्षा का प्रबंध भी कर दिया। बड़ा होकर वह राजा का योग्य मंत्री व सलाहकार बन गया।

Leave a comment

किस्मत (Kings Fails to Make a Boy Rich)

King Chandan Singh tries his best to make a young man rich but he fails.

Story in Hindi

चंदन नगर का राजा चंदन सिंह बहुत ही पराक्रमी एवं शक्तिशाली था। उसका राज्य भी धन-धान्य से पूर्ण था। राजा की ख्याति दूर-दूर तक फैली थी।

एक बार चंदन नगर में एक ज्योतिषी पधारे। उसका नाम था भद्रशील। उनके बारे में विख्यात था कि वह बहुत ही पहुंचे हुए ज्योतिषी हैं और किसी के भी भविष्य के बारे में सही-सही बता सकते हैं। वह नगर के बाहर एक छोटी कुटिया में ठहरे थे।

अब ज्योतिषी भद्रशील नगर छोड़कर जाने लगे तो उनकी इच्छा हुई कि वह भी राजा के दर्शन करें। उन्होंने राजा से मिलने की इच्छा व्यक्त की और राजा से मिलने की अनुमति उन्हें सहर्ष मिल गई। राज दरबार में राजा ने उनका हार्दिक स्वागत किया। चलते समय राजा ने ज्योतिषी को कुछ हीरे-जवाहरात देकर विदा करना चाहा, परंतु ज्योतिषी ने यह कह कर मना कर दिया कि वह सिर्फ अपने भाग्य का खाते हैं। राजा की दी हुई दौलत से वह अमीर नहीं बन सकते।

राजा ने पूछा-”इससे क्या तात्पर्य है आपका गुरुदेव?“

”कोई भी व्यक्ति अपनी किस्मत और मेहनत से गरीब या अमीर होता है। यदि राजा भी किसी को अमीर बनाना चाहे तो नहीं बना सकता। राजा की दौलत भी उसके हाथ से निकल जाएगी।“

यह सुनकर राजा को क्रोध आ गया।

”गुरुदेव! आप किसी का हाथ देखकर यह बताइए कि उसकी किस्मत में अमीर बनना लिखा है या गरीब, मैं उसको उलटकर दिखा दूंगा।“ राजा बोले।

”ठीक है, आप ही किसी व्यक्ति को बुलाइए, मैं बताता हूं उसका भविष्य और भाग्य।“ ज्योतिषी ने शांतिपूर्वक उत्तर दिया।

राजा ने अपने मंत्री को चुपचाप कुछ आदेश दिया और कुछ ही क्षणों में एक सजा-धजा नौजवान ज्योतिषी के सामने हाजिर था। ज्योतिषी भद्रशील ने उस व्यक्ति का माथा देखा फिर हाथ देखकर कहा-”यह व्यक्ति गरीबी में जन्मा है और जिन्दगी भर गरीब ही रहेगा। इसे खेतों और पेड़ों के बीच कुटिया में रहने की आदत है और वहीं रहेगा।“

राजा चंदन सिंह सुनकर हैरत में पड़ गया, बोला-”आप ठीक कहते हैं, यह सजा-धजा नौजवान महल के राजसी वस्त्र पहनकर आया है, परंतु वास्तव में यह महल के बागों की देखभाल करने वाला गरीब माली है। परंतु गुरुदेव एक वर्ष के भतर मैं इसे अमीर बना दूंगा। यह जिन्दगी ीार गरीब नहीं रह सकता।“

राजा का घमंड देखकर ज्योतिषी ने कहा-”ठीक हक्, आप स्वयं आजमा लीजिए, मुझे आज्ञा दीजिए।“ और ज्योतिषी भद्रशील चंदन नगर से चले गये।

राजा ने अगले दिन माली दयाल को बुलाकर एक पत्र दिया और साथ में यात्रा करने के लिए कुछ धन दिया। फिर उसने कहा-”यहां से सौ कोस दूर बालीपुर में मेरे परम मित्र भानुप्रताप रहते हैं, वहां जाओ और यह पत्र उन्हें दे आओ।“

सुनकर दयाल का चेहरा लटक गया। वह पत्र लेकर अपनी कुटिया में आ गया और सोचने लगा यहां तो पेड़ों की थोड़ी-बहुत देखभाल करके दिन भर आराम करता हूं। अब इतनी गर्मी में इतनी दूर जाना पड़ेगा।

परंतुु राजा की आज्ञा थी, इसलिए अगले दिन सुबह तड़के वह चंदन नगर से पत्र लेकर निकल गया। दो गांव पार करते-करते वह बहुत थक चुका था और धूप चढ़ने लगी थी। इस कारण उसे भूख और प्यास भी जोर की लगी थी। वह उस गांव में बाजार से भोजन करके एक पेड़ के नीचे खाने बैठ गया। अभी आधा भोजन ही कर पाया था कि उसका एक अन्य मित्र, जो खेती ही करता था, मिल गया।

दयाल ने अपनी परेशानी अपने मित्र टीकम को बताई। सुनकर टीकम हंसने लगा, बोला-”इसमें परेशानी की क्या बात है? राजा के काम से जाओगे, खूब आवभगत होगी। तुम्हारी जगह मैं होता तो खुशी-खुशी हाता।“ यह सुनकर दयाल का चेहरा खुशी से खिल उठा, ”तो ठीक है भैया टीकम, तुम ही यह पत्र लेकर चले जाओ, मैं एक दिन यहीं आराम करके वापस चला जाऊंगा।“

टीकम ने खुशी-खुशी वह पत्र ले लिया और दो दिन में बाली नगर पहुंच गया। वहां का राजा भानुप्रताप था। टीकम आसानी से भानुप्रताप के दरवाजे तक पहुंच गया और सूचना भिजवाई कि चंदन नगर के राजा का दूत आया है। उसे तुरंत अंदर बुलाया गया।

टीकम की खूब आवभगत हुई। दरबार में मंत्रियों के साथ उसे बिठाया गया जब उसने पत्र दिया तो भानुप्रताप ने पत्र खोला। पत्र में लिखा था-”प्रिय मित्र, यह बहुत योग्य एवं मेहनती व्यक्ति है। इसे अपने राज्य में इसकी इच्छानुसार चार सौ एकड़ जमीन दे दो और उसका मालिक बना दो। यह मेरे पुत्र समान है। यदि तुम चाहो तो इससे अपनी पुत्री का विवाह कर सकते हो। वापस आने पर मैं भी उसे अपने राज्य के पांच गांव इनाम में दे दूंगा।“

राजा भानुप्रताप को लगा कि यह सचमुच में योग्य व्यक्ति है उसने अपनी पुत्री व पत्नी से सलाह करके पुत्री का विवाह टीकम से कर दिया और चलते समय ढेरों हीरे-जवाहरात देकर विदा किया।

उधर, आलसी दयाल थका-हारा अपनी कुटिया में पहुंचा और जाकर सो गया। दो दिन सोता रहा। फिर सुबह उठकर पेड़ों में पानी देने लगा। सुबह जब राजा अपने बाग में घूमने निकले तो दयाल से पत्र के बारे में पूछा। दयाल ने डरते-डरते सारी बात राजा को बता दी।

राजा को बहुत क्रोध आया और साथ ही ज्योतिषी की भविष्यवाणी भी याद आई। परंतु राजा ने सोचा कि कहीं भूल-चूक भी हो सकती है। अतः वह एक बार फिर प्रयत्न करके देखेगा कि दयाल को धनी किस प्रकार बनाया जाए? तीन-चार दिन पश्चात् दयाल राजा का गुस्सा कम करने की इच्छा से खेत से बड़े-बड़े तरबूज तोड़कर लाया। और बोला-”सरकार, इस बार फसल बहुत अच्छी हुई है। देखिए, खेत में कितने बड़े-बड़े तरबूज हुए हैं। राजा खुश हो गया। उसने चुपचाप अपने मंत्री को इशारा कर दिया। मंत्री एक बड़ा तरबूज लेकर अंदर चला गया और उसे अंदर से खोखला कर उसमें हीरे-जवाहरात भरवाकर ज्यों का त्यों चिपकाकर ले आया।

राजा ने दयाल से कहा-”हम आज तुमसे बहुत खुश हुए हैं। तुम्हें इनाम में यह तरबूज देते हैं।“

सुनकर दयाल का चेहरा फिर लटक गया। वह सोचने लगा कि राजा ने इनाम दिया भी तो क्या? वह बड़े उदास मन से तरबूज लेकर जा रहा था, तभी उसका परिचित लोटन मिल गया। वह बोला-”क्यों भाई, इतने उदास होकर तरबूज लिए कहां चले जा रहे हो?“

दयाल बोला-”क्या करुं, बात ही कुछ ऐसी है। आज राजा मुझसे खुश हो गए, पर इनाम में दिया यह तरबूज। भला तरबूज भी इनाम में देने की चीज है? मैं किसे खिलाऊंगा इतना बड़ा तरबूज?“

लोटन बोला-”निराश क्यों होते हो भाई, इनाम तो इनाम ही है। मुझे ऐसा इनाम मिलता तो मेरे बच्चे खुश हो जाते।“

”फिर ठीक है, तुम्हीं ले लो यह तरबूज।“ और दयाल तरबूज देकर कुटिया पर आ गया।

अगले दिन राजा ने दयाल का फिर वही फटा हाल देखा तो पूछा-”क्यों तरबूज खाया नहीं?“

दयाल ने सारी बात चुपचाप बता दी। राजा को दयाल पर बड़ा क्रोध आया? पर क्या कर सकता था।

अगले दिन दयाल ने लोटन को बड़े अच्छे-अच्छे कपड़े पहने बग्घी में जाते देखा तो उसके आश्चर्य का ठिकाना न रहा। दयाल ने अचानक धनी बनने का राज लोटन से पूछा तो उसने तरबूज का किस्सा बता दिया। सुनकर दयाल हाथ मलकर रह गया। तभी उसने देखा कि किसी राजा की बारात सी आ रही है। उसने पास जाकर पता किया तो पता लगा कि कोई राजा अपनी दुल्हन को ब्याह कर ला रहा था। ज्यों ही उसने राजा का चेहरा देखा तो उसके हाथों के तोते उड़ गए। उसने देखा, राजसवारी पर टीकम बैठा था। अगले दिन टीकम से मिलने पर उसे पत्र की सच्चाई पता लगी, परंतु अब वह कर ही क्या सकता था?

राजा ने भी किस्मत के आगे हार मान ली और सोचने लगा-‘ज्योतिषी ने सच ही कहा था, राजा भी गरीब को अमीर नहीं बना सकता, यदि उसकी किस्मत में गरीब रहना लिखा है’। अब राजा ने ज्योतिषी भद्रशील को बहुत ढुंढवाया, पर उनका कहीं पता न लगा।

Leave a comment

रूपाली और जादूगर (Princess Rupali becomes a Statue)

When a magician turn princess Rupali into a status, a young man goes for searching her and ends up being a hero.

Complete Story in Hindi

सूरजगढ़ देश में एक राजा था हुकम सिंह। उसके राज्य में सब तरफ सुख-शांति थी। प्रजा बहुत मेहनती और सुखी थी। चारों ओर हरियाली और खुशहाली का साम्राज्य था।

राजा हुकम सिंह भी अपनी प्रजा का सुख देकर खुश होता, पर मन ही मन वह अपनी पत्नी का दुख देखकर बहुत दुखी था।

राजा ने साधु-महात्माओं से काफी इलाज करवाए, पूजा-पाठ की, पर कोई लाभ नहीं हुआ। प्रजा भी राजा के लिए संतान की भिन्नता कर-करके थक चुकी थी।

राजा धीरे-धीरे बूढ़ा हो चला था, तभी उसके यहां एक सुंदर पुत्री ने जन्म लिया। सारे राज्य में खुशियां छा गई। राजा ने गरीबों को वस्त्र व भोजन दान किया तथा पूरे राज्य में दावत का ऐलान किया। हर व्यक्ति ने जी भरकर खाया और राजा को आशीष देता चला गया।

बहुत रूपवान होने के कारण राजकुमारी का नाम रूपाली रखा गया। ज्यों-ज्यों रूपाली बड़ी होने लगी, उसका रूप निखरने लगा। चांद से मुखड़े पर उसके घने घुंघराले बाल हर देखने वाले को बरबस ही आकर्षित कर लेते थे।

राजकुमारी राजकुमारों की भांति भाले-तीर चलाना सीखने लगी। वह रूपवान तो थी ही, वीर और साहसी भी थी। उसमें दुर्गुण था तो एक ही, वह बहुत जिद्दी व घमंडी थी।

राजा के बुढ़ापे की संतान होेने के कारण अत्याधिक लाड़-प्यार मिलने से ही रूपाली जिद्दी बन गई थी। जो बात ठान लेती, उसे पूरा करके ही छोड़ती थी।

ज्यों-ज्यों रूपाली विवाह योग्य हो रही थी, राजा हुकम सिंह का बुढ़ापा बढ़ रहा था। अतः वह रूपाली के विवाह के लिए चिन्तित रहने लगा।

अनेक राजकुमारों के प्रस्ताव रूपाली के विवाह के लिए आए, पर राजकुमारी रूपाली उन सभी में कोई न कोई खोट निकालकर अस्वीकार कर देती।

राजा हुकम सिंह की चिंता बढ़ती जा रही थी। एक दिन रूपाली अपनी प्रिय सखी सलिला व घुडसवारों के साथ शिकार के लिए निकल पड़ी। रूपाली निपुणता से घोड़े को दौड़ाती हुई आगे निकल गई। अपने साथियों से बहुत दूर आने पर उसने देखा वह अकेली रह गई है। तभी उसने अपने सामने एक सुंदर हिरन देखा।

ज्यों ही रूपाली ने तीर चलाना चाहा, हिरन बोला-”राजकुमारी, तुम मुझे छोड़ दो मैं तुम्हें परी देश की सैर करा सकता हूं।“

राजकुमारी हिरन की बात सुनकर घोड़े से उतर गई और बोली-“जब तक मेरे सभी घुड़सवार आते हैं, तब तक मैं परीलोक की सैर कर लेती हूं।“

रूपाली को प्यास लगी थी। वह हिरन के साथ नदी किनारे पहुंच गई। वह हिरन वास्तव में जादूगर था, वह उसे पास ही जादुई नदी के पास ले गया।

ज्यों ही रूपाली ने नदी का पानी छुआ, वह पत्थर की बुत बन गई और नदी के अंदर चली गई।

उधर, घुड़सवार सारे जंगल में रूपाली को ढूंढ़कर थक गए। जब रूपाली का कहीं पता न चला तो वे निराश होकर लौट आए।

राजा ने सारे राज्य में घोषणा करा दी कि जो भी व्यक्ति राजकुमारी रूपाली को ढूंढ़ कर लाएगा, उसी के साथ राजकुमारी का विवाह कर दिया जाएगा।

अनेक व्यक्ति जगंल में राजकुमारी को ढूढ़ने गए, पर निराश होकर लौट आए।

मंगल सुमन नामक एक युवक भी रूपाली को ढूंढ़ने अपने घोड़े पर निकला। बहुत आगे निकल जाने पर उसे वही हिरन दिखाई दिया। हिरन बहुत संुदर था।

मंगल सुमन ने सोचा कि राजकुमारी तो मिली नहीं, क्यों न इसका आखेट कर लूं। ज्योंही उसने हिरण को निशाना बनाया हिरन पहले की भांति बोला-”मैं तुम्हें परीलोक की सैर करा सकता हूं।“

मंगल सुमन ने हिरन की बात की परवान किए बिना तीर चला दिया। तीर किरन के माथे पर लगा और हिरन एक जादूगर बनकर गिर गया व तड़पने लगा। मंगल सुमन ने तुंरत एक तीर और चलाया और जागूगर लुढ़कता हुआ एक नदी के पास जा गिरा।

जादूगर के मरते ही नदी का जल सूख गया, अब वहां एक सुंदर महल खड़ा था।

मंगल सुमन जब महल के अंदर गया तो वहां एक सुंदर राजकुमारी व अनेक लोगों को बंदी देखा। उसने राजकुमारी से परिचय पूछा तो वह बोली-”मेरा नाम रूपाली है। मैं सूरजगढ़ के राजा हुकुम सिंह की पुत्री हूं। मैं परीलोक की सैर के लालच में जादूगर के चंगुल में फंस गई। यहां बंदी सभी लोग परीलोक की सैर के लालच में आए थे।“

मंगल सुमन ने अपना परिचय देते हुए बताया कि तुम्हारे पिता तुम्हारे तुम्हारे लिए बहुत चिंित हैं। चलो, अपने राज्य वापस चलो। मंगल सुमन ने वहां सभी कैदियों को मुक्त कर दिया और रूपाली को घोड़े पर बिठाकर सूरजगढ़ ले आया। राजकुमारी समंगल सुमन की वीरता से प्रभावित हो चुकी थी। अतः उसने स्वयं ही अपने पिता से मंगल सुमन की वीरता की प्रशंसा की। राजा हुकुम सिंह ने जब अपनी घोषणा के बारे में रूपाली को बताया, तो राजकुमारी के गालों पर शर्म की लाली छा गई।

राज पंडित को बुलाकर विवाह की तिथि घोषित कर दी गई और बहुत ही धूमधाम से रूपाली का विवाह मंगल सुमन से कर दिया गया तथा मंगल सुमन को अपना उत्तराधिकारी बना कर सूरजगढ़ का राज्य सौंप दिया।

Leave a comment